अमेरिका और अफगान सेना ले रही आम नागरिकों की जान, रिपोर्ट में खुलासा

7:06 pm Published by:-Hindi News

संयुक्त राष्ट्र की बुधवार को जारी रिपोर्ट के मुताबिक, अमेरिकी सैनिको और सरकार समर्थित सेनाओं और तालिबान व अन्य चरमपंथी गुटों ने आम नागरिकों की सबसे अधिक संख्या में हत्या की है।

ये हत्या ऐसे समय में हुई जब अमेरिका ने अफगानिस्तान में हवाई अभियान में इजाफा किया है जबकि तालिबान के साथ शान्ति समझौते के लिए भी बातचीत कर रहा है। तालिबान का अब अफगानिस्तान के अधिकतम भागो पर नियंत्रण है और उन्हें साल 2001 में सत्ता से बेदखल किया गया था।

यूनाइटेड नेशन मिशन इन अफगानिस्तान से रिपोर्ट में खुलासा किया कि “साल 2019 के शुरूआती महीनो में अंतर्राष्ट्रीय और सर्कार समर्थित सेनाओं ने 305 नागरिकों की हत्या की है जबकि चरमपपंथियों ने 227 लोगो को मौत के घाट उतारा है। इसमें से अधिकतर मौते हवाई हमले और जमीन पर खोजी अभियान के कारण हुई है जिसे प्राथमिक तौर पर अमेरिकी समर्थित अफगान सेना ने अंजाम दिया है।

इसमें कहा गया, “यूएनएएमए ने अफगान राष्ट्रीय सुरक्षा बलों एवं अंतरराष्ट्रीय सैन्य बलों से नागरिकों की मौत के आरोपों की जांच की, इन जांचों के परिणामों को प्रकाशित करने की अपील की और पीड़ितों को उचित मुआवजा देने को कहा।” यूएनएएमए ने अफगानिस्तान में बिगड़ती सुरक्षा स्थितियों के बीच नागरिकों की मौत के डेटा एकत्रित करना शुरू किया था।

यूएनएएमए की रिपोर्ट के मुताबिक साल 2018 के शुरूआती तीन महीनो के मुकाबले इस वर्ष हताहत का आंकड़ा 23 फीसदी कम हुआ है। बीते वर्ष यूएनएएमए ने 1773 नागरिक हताहत की सूचना दी थी जिसमे 581 लोगो की मौत और 1192 लोग जख्मी थे। साल 2013 के बड़ा यह सबसे निम्नतम तिमाही का आंकड़ा था। आंकड़ों में कमी शायद फियादीन हमलो में कमी के कारण हुआ हो।

यूएनएएमए के प्रमुख तदमीची यामामोटो ने कहा कि “आम नागरिकों की हत्या और घायल होने के आंकड़ों से आश्चर्यचकित हूँ। सभी पक्षों को नागरिकों की अधिक सुरक्षा को तवज्जो देनी चाहिए।” बीते वर्ष अफगानिस्तान में संघर्ष के दौरान 3804 लोगो की हत्या की गयी थी।

खानदानी सलीक़ेदार परिवार में शादी करने के इच्छुक हैं तो पहले फ़ोटो देखें फिर अपनी पसंद के लड़के/लड़की को रिश्ता भेजें (उर्दू मॅट्रिमोनी - फ्री ) क्लिक करें