अफगान राष्ट्रपति अशरफ गनी ने अफगान और पाक रिश्तों के बारें में कहा कि अफगानिस्तान ने पाकिस्तान के साथ जो शांति प्रक्रिया शुरू की थी, वह पाकिस्तान की ओर से अच्छे और बुरे तालिबान में अंतर के कारण कामयाब नहीं हो सकी.

राष्ट्रपति अशरफ गनी ने कहा कि क्षेत्र में शांति के लिए अफगानिस्तान ने पड़ोसी देशों के सदंर्भ में जो कदम उठाए थे, उनके पाकिस्तान के अलावा संतोषजनक परिणाम सामने आ रहे हैं. चार पक्षीय  शांति प्रक्रिया में वादों के बावजूद, पाकिस्तान व्यावहारिक रूप से अच्छे और बुरे तालिबान में अंतर की अपनी नीति जारी रखे हुए है.

नेटो शिखर सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि हमें अपने  पड़ोसी के साथ संबंधों में जो महत्वपूर्ण समस्या है वह किसी एेसे नियम का मौजूद न होना है जिस पर सब सहमत हों इस लिए एेसे किसी नियम के लिए हमें, क्षेत्रीय और अंतरराष्ट्रीय  समर्थन की जरूरत है.

उन्होंने कहा कि विश्व के नेताओं को यह समझना चाहिए कि अफगानिस्तान को कई तरह की समस्याओं का सामना है और वह अलकायदा, दाइश और तालिबान सहित विभिन्न आतंकवादी गुटों से लड़ रहा है.

कोहराम न्यूज़ को सुचारू रूप से चलाने के लिए मदद की ज़रूरत है, डोनेशन देकर मदद करें




Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें