rachid nekkaz 2

अल्जीरिया के एक बिजनेसमैन ने शनिवार को कहा कि वह डेनमार्क में हिजाब पहनने पर जुर्माने का सामना करने वाली सभी मुस्लिम महिलाओं के जुर्माने का भुगतान करेंगे. साथ ही जो आगे भी जो मुस्लिम माहिलाएं हिजाब पहन कर कानून तोड़ेंगी उनका भी जुर्माना अदा करेंगे.

बता दें कि डेनमार्क की सरकार ने 6 फरवरी को सार्वजनिक स्थानों पर पूर्ण चेहरे के पर्दा पर प्रतिबंध लगाने का प्रस्ताव पारित किया है.

अल्जीरियाई बिजनेसमैन रशीद नेकज़ाज ने बताया कि उन्होंने फ्रांस, बेल्जियम, स्विट्जरलैंड, नीदरलैंड, आस्ट्रिया और जर्मनी सहित छह देशों में इसी तरह की परिस्थितियों वाली महिलाओं के 1,538 जुर्माना भी चुकाए हैं. 2010 में, फ्रांस सहित कई यूरोपीय देशों में हिजाब बैन किये जाने के बाद  नेक्काज़ महिलाओं के जुर्माना भरने के लिए चर्चा में आए थे.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

अल्जीरियाई बिजनेसमैन और राजनीतिक कार्यकर्ता ने इन जुर्मानाओं का भुगतान करने के लिए 1 मिलियन यूरो खर्च कर चुके है. उनका कहना है कि यूरोप में सरकारें मुसलमानों के लिए यूरोप का अनुकूलन करने का समाधान नहीं कर रही हैं, इसलिए यूरोप में मुस्लिम समुदायों को अपने हितों की रक्षा के लिए बहुत मजबूत होना चाहिए”

उन्होंने कहा, “यह मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण है कि मैं यूरोपीय सरकारों को स्वतंत्रता को प्रतिबंधित करने के लिए संदेश दे सकूं कि वे जो भी चाहते हैं, वह नहीं कर सकते.” उन्होंने कहा, “यदि देश में उन लोगों के हिजाब पर प्रतिबंध है जो उन्हें पहनना चाहते हैं, तो मैं उनके जुर्माना दे रहा हूं.”

नेक्काज़ ने कहा कि डेनमार्क से पहले, उन्होंने 8 मार्च को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर पर्दा पहनने से इनकार करने वाली 29 महिलाओं की आजादी का समर्थन करने के लिए ईरान की यात्रा भी की थी. उन्होंने कहा, “मेरा धर्म का बचाव नहीं करना, बल्कि स्वतंत्रता की रक्षा करना है. स्वतंत्रता का सिद्धांत सार्वभौमिक अधिकार है.”

Loading...