bo

bo

म्यांमार में बौद्ध चरमपंथियों की हिंसा के चलते लाखों की तादाद में रोहिंग्या मुस्लिमों को पड़ोसी मुल्क बंगलादेश में पलायन के लिए मजबूर होना पड़ा है.

अब बौद्ध चरमपंथियों की ऐसी ही हिंसा मुस्लिमों के खिलाफ श्रीलंका में भी शुरू हो गई है. रविवार को देश के मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्रों में बौद्ध चरमपंथियों अल्पसंख्यक मुस्लिम समुदायों के घरों को निशाना बनाया. बौद्ध कट्टरपंथियों ने कई मुसलमानों के घरों, दुकानों और वाहनों में आग लगा दी.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

स्थानीय मीडिया के अनुसार, हिंसक घटनाओं में 62 घर, दर्जोनों  दुकानें और 10 वाहनों को बौद्ध चरमपंथियों ने जला दिए है. जिन घरों, दुकानों और वाहनों को जलाया गया है वे अधिकतर मुसलमानों के ही हैं.

इस घटना के बाद पुलिस ने देश के दक्षिण में 19 लोगों को गिरफ्तार किया . साथ ही 1000 से अधिक सुरक्षाकर्मी को हिंसा ग्रस्त इलाकों में तैनात कर दिया गया.

उल्लेखनीय है कि श्रीलंका की जनसंख्या लगभग दो करोड़ दस लाख है जिसमें दस प्रतिशत आबादी मुसलमानों की है. इससे पहले 2014 में अलथगमा के दक्षिणी शहर में चार दिन तक चले इस तरह के संघर्ष में चार लोग मारे गए थे और 500 से ज्यादा दुकाने जला दी गई थी.