वाशिंगटन | रिपब्लिकन डोनाल्ड ट्रम्प ने अमेरिका के 45वे राष्ट्रपति के रूप में शपथ ले ली है. 20 जनवरी को ट्रम्प ने कार्यकाल संभालते ही दो महत्वपूर्ण कदम उठाये. उन्होंने पहले कदम के रूप में ओबामा केयर की दोबारा समीक्षा करने का आदेश दिया . इसके अलावा वर्क फाॅर्स कम करने के लिए उन्होंने फ़िलहाल की नियुक्तियों पर रोक लगा दी है. लेकिन जितने काम करने का वादा उन्होंने किया था, उनको वो पूरा करने में असफल रहे.

डोनाल्ड ट्रम्प ने राष्ट्रपति पद की शपथ लेने के बाद , पहले ही दिन अपने 34 वादों को तोड़ दिया. उन्होंने चुनाव प्रचार के दौरान वादा किया था की अपने कार्यकाल के पहले ही दिन मैं 36 काम पूरा करूँगा. ट्रम्प ने जनता से कुल 663 वादे किये थे. उन्होंने चुनाव प्रचार के दौरान हमेशा पहले दिन पर काफी जोर दिया. उन्होंने हर रैली में पहले दिन पर काफी जोर दिया.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इसलिए पुरे देश की मीडिया उनके कार्यकाल के पहले दिन को बड़े ध्यान से देख रही थी. ट्रम्प ने वादा किया था की वो राष्ट्रपति बनने के पहले घंटे में ही वो ड्रग उत्पादकों और तस्करों के खिलाफ कार्यवाही करेंगे. ट्रम्प ने चुनाव प्रचार में कहा था की मेरे राष्ट्रपति बनने के एक घंटे के अन्दर ही देश ड्रग तस्करों से मुक्त हो जाएगा. मैं पहले घंटे में ही ड्रग तस्करों पर कार्यवाही करने सम्बन्धी कागजातों पर हस्ताक्षर करूँगा. यह वादा ट्रम्प पूरा नही कर पाए.

साल 2012 में ओबामा ने उन अप्रवासी लोगो के लिए एक कानून बनाया था जिनकी उम्र 18 साल से कम है. इस कानून में इन लोगो को उनके देश निर्वासित करने से पहले दो साल का समय दिया जाता था. ट्रम्प ने कहा था की वो राष्टपति बनते ही इस कानून को खत्म कर देंगे. ट्रम्प यह वादा भी पूरा नही कर पाए. ट्रम्प ने यह भी वादा किया था वो पहले ही दिन चीन के खिलाफ भी कार्यवाही करेंगे. उन्होंने यह वादा भी पूरा नही किया.

ट्रम्प ने यह भी कहा था की वो 20 जनवरी से 23 जनवरी के बीच कई अहम् फैसले लेंगे. उन्होंने कहा था की मैं किसी भी दिन शपथ लूँ लेकिन मैं मान कर चलूँगा की वह दिन सोमवार ही है. मैं गाने बजाने और खुशिया मानाने में समय बर्बाद नही करूँगा. हालांकि 20 जनवरी का दिन सोमवार ही था. कुल मिलाकर ट्रम्प की कथनी और करनी में काफी अंतर दिखाई दिया. ट्रम्प को सत्ता सँभालने के बाद यह भी इल्म हो रहा होगा की चुनाव प्रचार में वादा करना और सत्ता मिलने के बाद उनको हकीकत का रूप देना, काफी अलग होता है.

Loading...