वाशिंगटन | अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प , शपथ लेने के बाद से ही सुर्खियों में बने हुए है. कोई ऐसा दिन नही है जब उनके फैसले दुनिया में चर्चा का विषय नही बन रहे है. इसके अलावा ट्रम्प के ट्वीट भी सुर्खिया बटोर रहे है. चुनाव प्रचार के दौरान ही ट्रम्प का कुछ मुस्लिम देशो के प्रति जो रवैया रहा वो राष्ट्रपति बनने के बाद भी जस का तस है. खासकर ईरान के प्रति उनका रुख काफी कड़ा है.

हालाँकि ईरान , अमेरिका के रुख से बेपरवाह नजर आ रहा है इसलिए उन्होंने बलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण कर अमेरिका को यह जताने की कोशिश की वो उनके दबाव में आने वाले नही है. ईरान का यह रुख डोनाल्ड ट्रम्प को बिलकुल नही भाया इसलिए उन्होंने ईरान पर कुछ नए प्रतिबंध लगाने का फैसला किया है. अमेरिकी अधिकारियो के अनुसार ईरान के रुख के बाद उसके करीब 20 नागरिको, कंपनियों और सरकारी एजेंसीज पर प्रतिबंध लग सकता है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

लेकिन अभी इसकी कोई जानकारी उपलब्ध नही हुई की अमेरिका इरान की किन एजेंसीज पर ये प्रतिबंध लगाने वाला है. इससे पहले डोनाल्ड ट्रम्प ने ट्वीट कर ईरान को धमकाते हुए कहा की इरान आग के साथ खेल रहा है. मुझे ओबामा की तरह न समझा जाए. यह पहला मौका नही है जब ट्रम्प ने ओबामा और इरान पर निशाना साधा है. चुनाव प्रचार के दौरान भी ट्रम्प , ओबामा और ईरान के समझौते के खिलाफ बोलते थे.

ट्रम्प ने उस समय वादा किया था की राष्ट्रपति बनते ही इरान के खिलाफ एक्शन लिया जाएगा. उधर अमेरिका के रुख पर टिप्पनी करते हुए इरान के शीर्ष नेता अयातुल्लाह अल खमैनी के विदेश मामलों के सलाहकार अली अकबर विलायती ने कहा की इससे अमेरिका की हार होगी. मालूम हो की ओबामा प्रशासन ने अपने कार्यकाल के आखिरी साल में इरान पर लगे सभी प्रतिबंध हटा लिए थे. इरान पर परमाणु परीक्षण करने के बाद ये प्रतिबंध लगाए गए थे.

Loading...