Monday, September 20, 2021

 

 

 

ट्रम्प की ‘अभद्र’ टिप्पणी से अफ़्रीकी देशों में उबाल, अफ़्रीकी यूनियन ने की माफ़ी की माँग

- Advertisement -
- Advertisement -

वाशिंगटन । अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की एक टिप्पणी ने अफ़्रीकी देशों में उबाल ला दिया है। अफ़्रीकी देशों का आरोप है की ट्रम्प ने उनको लेकर बेहद ही अभद्र टिप्पणी की है। इस मामले में अफ़्रीकी यूनियन ने ट्रम्प से माफ़ी की माँग की है। हालाँकि ट्रम्प ने अफ़्रीकी देशों के ख़िलाफ़ किसी भी असभ्य भाषा के इस्तेमाल के आरोप को ख़ारिज किया है। उधर विपक्षी पार्टी के नेता हिलरी क्लिंटन ने इस मामले में ट्रम्प पर निशाना साधा है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार हाल में आव्रजन नीति को लेकर ओवल दफ़्तर में एक बैठक हुई थी। इस बैठक में ट्रम्प ने अफ़्रीकी महाद्वीप, हैती और एल सल्वाडोर जैसे देशों के लिए असभ्य भाषा का प्रयोग किया। इस बैठक में मौजूद होने का दावा करने वाले डेमोक्रेटिक सीनेटर डिक डर्बिन ने कहा कि तरंप ने अफ़्रीकी देशों के लिए ‘शिटहोल्स’ और अन्य नस्लभेदी भाषा का इस्तेमाल किया।

डिक का यह भी दावा है की ट्रम्प ने कई बार इस भाषा का इस्तेमाल किया। डिक के दावों के बाद अफ़्रीकी यूनियन ने ट्रम्प की आलोचना करते हुए उनसे माफ़ी की माँग की। अफ़्रीकी देश बोत्सवाना की विदेश मंत्री पेइलोनोमी वेंसन मोईतोई ने भी इसकी निंदा की है। उन्होंने कहा कि यह शब्द किसी देश के राष्ट्रपति द्वारा इस्तेमाल नही होना चाहिए। हम जानते हैं कि यह अमरीकी कांग्रेस नहीं है जिसने इस शब्द को इस्तेमाल करने के लिए अधिकार दिया है।

उधर मामला बढ़ता देख ट्रम्प ने सफ़ाई दी है। उन्होंने इन आरोपो को ख़ारिज करते हुए कहा की मैंने अफ़्रीकी देशों के लिए असभ्य भाषा का इस्तेमाल नही किया। उन्होंने ट्वीट कर लिखा,’ बैठक में उनकी भाषा ‘सख़्त’ थी लेकिन जिस शब्द को उनसे जोड़ा जा रहा है, ‘वैसी भाषा इस्तेमाल नहीं की है।’ उधर हिलरी क्लिंटन ने इस मामले में कहा की देश उनके अशिक्षित और नस्लभेदी विचारों का गवाह है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles