उत्तरी अफ़ग़ानिस्तान में तालिबान ने अफ़ग़ान सेना बैस पर हमला किया जिसमे 70 से अधिक जवानों की मौत हो गई है. ये हमला शहर मज़ार-ए-शरीफ़ के बाहरी इलाके में किया गया.

नैटो के कमान्डर अमरीकी जनरल जान निकोलसन ने अपने बयान में कहा कि अफ़ग़ान आर्मी के 209वीं कोर बेस पर हमले में नमाज़ अदा करने वाले और खाने के स्थानों पर मौजूद सैनिकों को निशाना बनाया गया. वहीँ अफगान सेना के एक प्रवक्ता ने बताया कि तालिबान के लड़ाके सेना की वर्दी में थे. उन्होंने सैनिकों को उस वक्त निशाना बनाया जब सैनिक जुमे की नमाज पढ़ने के बाद मस्जिद से बाहर निकल रहे थे.

अफ़ग़ान रक्षामंत्रालय के प्रवक्ता दौलत वज़ीरी का कहना था कि अफ़ग़ान आर्मी की वर्दी में आए सशस्त्र लोगों ने बलख़ की राजधानी मज़ारे शरीफ़ के उपनगरीय क्षेत्र में स्थित आर्मी कंपाउंड पर हमला कर दिया.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

उन्होंने एएफ़पी को बताया कि अफ़ग़ान आर्मी के कोर पर हमले में 10 हमलावर शामिल थे जिनमें से 7 को जवाबी कार्यवाही में मार दिया गया और एक को गिरफ़्तार कर लिया गया जबकि दो ने झड़पों के दौरान स्वयं को धमाके से उड़ा लिया. तालेबान ने एक बयान जारी करके हमले की ज़िम्मेदारी स्वीकार कर ली है.

Loading...