रविवार शाम को अफगानिस्तान की राष्ट्रीय एकता सरकार (NUG) ने सिखों और हिंदुओं के लिए अफगान संसद में एक सीट के आरक्षण  को मंजूरी दे दी.

राष्ट्रपति द्वारा इस प्रस्ताव को अनुमति प्राप्त होनी हैं, ताकि अफगानिस्तान के प्रमुख अल्पसंख्यक समूह देश की संसद में प्रतिनिधित्व भेज सके. यह फैसला ऐसे समय में लिया गया हैं जब अल्पसंख्यक समुदाय अफगान के विकास में भागीदारी निभान चाहता हैं.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इससे पहले हामिद करज़ई की सरकार ने अल्पसंख्यक हिन्दू और सिख समुदाय को आरक्षण देने के लिए संसद में प्रस्ताव पेश किया था. लेकिन उस समय ये प्रस्ताव पारित नहीं हो पाया था.

अफगान सिखों और हिंदुओं की तादाद का एक बड़ा हिस्सा काबुल में रहता हैं. इसके अलावा नांगरहार और गजनी प्रांतों बड़ी संख्या में भी ये लोग रहते हैं.

Loading...