shohyat

म्यांमार सरकार का रोहिंग्या मुसलमानों के उपर अत्याचार के नएनए सबूत सामने आ रहे हैं. जिनसे साबित होता हैं कि म्यांमार सरकार रोहिंग्‍या मुस्लिमों का जाति नरसंहार करने पर तुली हैं. म्‍यांमार से एक और झकझोर देने वाली तस्‍वीर सामने आई है.

यह तस्वीर 16 महीने के एक बच्‍चे की हैं. जिसकी लाश कीचड़ में लथपथ पड़ी हुई हैं. इस बच्‍चे का नाम मोहम्‍मद शोहयात बताया जा रहा हैं. इसका पिता म्यांमार सरकार के जुल्म से तंग आकर उसे बांग्लादेश ले जा रहा था. इसके लिए उन्होंने नाव को नदी में अपना साधन बनाया लेकिन उनकी नाव पलटी खाकर डूब गई.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

किसी तरह शोहयात के घरवालों ने अपनी जान बचाई लेकिन शोहयात की डूबने से मौत हो गई. शोह्यात की लाश बाद में कीचड़ में सनी हुई मिली. शोहयात की ये तस्वीर रोहिंग्या मुसलमानों पर म्यांमार सरकार के जुल्मों का प्रतीक बनकर उभरी हैं. जिस तरह अयलान कुर्दी की उभरी थी.

शोहयात के पिता जफर आलम ने बांग्लादेश पहुँच कर सीएनएन को बताया, ”हमारे गांव में, हेलिकॉप्‍टर्स ने हमपर गोलियां बरसाईं और म्‍यांमार के सैनिकों ने हमारे ऊपर गोलियां दागी. मेरे दादा और दादी को जिंदा जला दिया. हमारे पूरे गांव को सेना ने आग लगा दी. कुछ नहीं बचा. जब मैं यह फोटो देखता है तो मर जाने को दिल करता है. इस दुनिया में रहने का कोई मतलब नहीं है.

उन्होंने दुनिया से अपील करते हुए कहा कि  ”मैं पूरी दुनिया को यह बात बताना चाहता हूं. म्‍यांमार की सरकार को और वक्‍त नहीं दिया जाना चाहिए. अगर आप कार्रवाई करने में देर करेंगे, तो वे सभी रोहिंग्‍या लोगों को मार डालेंगे.

Loading...