म्यामांर में सेना द्वारा आंग सान सू की की निर्वाचित सरकार के तख्तापलट के बाद देश के हालात तेजी से बिगड़ रहे है। म्यांमार से अब लोगों का पलायन भी शुरू हो गया है। करीब एक महीने के दौरान म्यांमार से कम से कम 19 पुलिस अफसर ने भारतीय सीमा पार करके मिजोरम में शरण ली हैं।

एनडीटी की रिपोर्ट के मुताबिक एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि इनमें कम से कम तीन म्यांमार पुलिस अधिकारी हैं जो वहां की सैना (military junta) से आदेश लेने से बचने के लिए भारत में घुस गए हैं, जो पिछले महीने के तख्तापलट के खिलाफ विरोध प्रदर्शनों को दबाने की कोशिश कर रही है।

मिजोरम के गृह विभाग के एक शीर्ष अधिकारी ने बताया कि तीन पुलिसकर्मी, जो कि सीमा पार कर चुके हैं, मिजोरम के सेरछिप जिले में लुंगक्वाला (Lungkawlh in Serchhip district of Mizoram) के पास शरण लिए हुए हैं। आठ लोग सर्छिप जिले में दाखिल हुए जबकि चार अन्य लोग चंफाई जिले पहुंचे।

अधिकारी ने कहा, “प्रोटोकॉल के अनुसार, हमने उन्हें आवास, भोजन और सुरक्षा दी है, क्योंकि उन्हें घूमने के लिए नहीं छोड़ा जा सकता है। विशेष रूप से स्थिति की संवेदनशीलता और सीमा के निकटता को देखते हुए, उनकी सुरक्षा के लिए भी चिंताएं हैं।”

अधिकारी ने बताया, “अभी के लिए, उन्हें शरण चाहने वालों के रूप में वर्गीकृत किया जा रहा है। हम आगे बढ़ने के लिए गृह मंत्रालय के और निर्देशों का इंतजार कर रहे हैं। म्यांमार में प्रदर्शनकारियों के खिलाफ हिंसा और अशांति को देखते हुए मिजोरम में स्थानीय प्रशासन को उम्मीद है कि आने वाले दिनों ऐसे और भी मामले सामने आएंगे।”