कोरोना ने आरबीआई कोई दिया झटका – सैनिटाइज करने से 2000 रु के 17 करोड़ नोट हुए बेकार

कोरोना महामारी सभी पर बड़ी आफत बन कर आई है। जिससे भारतीय रिज़र्व बैंक भी अछूता नहीं रह पाया है। दरअसल कोरोना महामारी के दौरान 2000 रु के 17 करोड़ नोट बेकार हो गए है। ये नोट सैनिटाईज करने, धोने, सुखाने से खराब हुए है।

न्यूज़ 18 के अनुसार, RBI के पास 2 हजार के 17 करोड़ से भी ज्यादा खराब नोट आए। इसके अलावा दो सौ, पांच सौ, 10 और 20 रुपये के नोट भी काफी अधिक खराब हुए। दो हजार रुपए के नोटों की संख्या पिछले साल की तुलना में 300 गुना ज्यादा है।

वहीं 500 की नई करेंसी दस गुना ज्यादा खराब हो गई। दो सौ के नोट तो पिछले साल की तुलना में 300 गुना से भी ज्यादा बेकार हो गए। बीस की नई करेंसी एक साल में बीस गुना से ज्यादा खराब हो गई।

2017-18 की बात करें तो उस समय आरबीआई के पास 2 हजार के एक लाख नोट आए थे। वहीं 2018-19 में ये संख्या बढ़कर 6 लाख हो गई।  साल 2019-20 में RBI के पास 2 हजार के 17.68 करोड़ नोट आए। अगर 500 के नोट की बात करें तो 2017-18 में 1 लाख, 2018-19 में 1.54 करोड़ और 2019-20 में 16.45 करोड़ खराब नोट आए।

वहीं भारतीय रिजर्व बैंक ने 2019-20 में 2,000 रुपये के नए नोटों की छपाई भी नहीं की है।  इस दौरान 2,000 के नोटों का प्रसार कम हुआ है। रिजर्व बैंक की 2019-20 की वार्षिक रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है। आरबीआई की ओर से कहा गया है कि 2018 के बाद से चलन में रहे दो हजार के नोटों की संख्या में लगातार कमी आ रही।

विज्ञापन