Tuesday, June 28, 2022

गैस महंगी हुई तो लोग करने लगे लकड़ी का इस्तेमाल – रिपोर्ट

- Advertisement -

इस Diwali 2021 में केंद्र सर्कार ने और कुछ राज्य सरकारों ने पेट्रोल और डीजल से टैक्स कम किया है। जिससे की लोगो को कुछ रहत मिली है। लेकिन अगर बात की जाए रसोई में जलने वाली गैस की तो गए का सिलेन्डर अब अभी महंगा होता जा रहा है इसमें कोई रुकावट नहीं आरी है। जब की गैस रोज़ाना उपयोग में आने वाली एक महत्वपूर्ड पदार्थ है। LPG हर गरीब से अमीर के घर में उपयोग की जाती है इसके उपयोग के बिना लोगो को काफी कठिनाई होती है खाना बनाने में।

एक सर्वे में सामने आया है कि खास क्षेत्र में करीब 42 फीसदी लोगों ने गैस सिलिंडर का इस्तेमाल करना छोड़ दिया है और वे फिर से लकड़ी से खाना बनाने लगे हैं। वहीं मोदी सरकार का दावा है कि उज्ज्वला योजना के तहत लोगों को मुफ्त में गैस सिलिंडर दिए गए जिसके बाद गांव के लोगों की ज़िंदगी बदल गई है। ‘द टेलिग्राफ’ में छपी रिपोर्ट के मुताबिक झारग्राम और वेस्ट मिदनापुर के लगभग 100 दूरदराज के गावों में 42 फीसदी लोगों ने गैस सिलिंडर को उठाकर किनारे रख दिया है। महामारी के दौरान वे गैस सिलिंडर का खर्च उठाने में सक्षम नहीं हैं।

सर्वे के प्रमुख रहे प्रवत कुमार ने बताया कि उन्होंने झारग्राम और वेस्ट मिदनापुर के 13 ब्लॉक में 100 गांवों में 560 घरों का सर्वे किया। इसमें सामने आया कि लोग तेजी से गैस सिलिंडर पर खाना बनाना छोड़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि सर्वे के दौरान लोगों ने महंगाई को अहम मुद्दा बताया। बता दें कि उज्ज्वला योजना की शुरुआत साल 2016 में की गई थी। इसका उद्देश्य था कि ज्यादातर लोग क्लीन कुकिंग फ्यूल का इस्तेमाल करें और कई तरह की बीमारियों से उन्हें बचाया जा सके। भाजपा सरकार ने देश के 98 फीसदी लोगों को गैस सिलिंडर देने का प्रयास किया था।

सर्वे में कहा गया है कि कुकिंग गैस के इस्तेमाल में कमी के तीन अहम कारण हैं। पहला है गैस की कीमतों मे वृद्धि, दूसरा है, उपलब्धता और तीसरा है लॉकडाउन के दौरान लोगों की आय में कमी। गैस का खर्च न वहन कर पाने की वजह से वे एक बार फिर जंगल की लकड़ी पर ही निर्भर हो रहे हैं। बहुत सारे लोगों ने गैस सिलिंडर को स्टोर रूम में रख दिया है। ग्रामीण क्षेत्रों में इन दिनों लोगों को बुआई के लिए पैसे की जरूरत है। ऐसे में किसान धान की फसल मात्र 1100 रुपये रुपये प्रति क्विंटल में बेचने को मजबूर है। मंडियों की कमी की वजह से किसान बिचौलियों के पास जाने को मजबूर हैं।

- Advertisement -

Hot Topics

Related Articles