Monday, May 17, 2021

सेहत के लिए संजीविनी बूटी है पुदीना, जानिये इसके फायदे

- Advertisement -

पोर्शिया | पुदीने को गर्मी और बरसात की संजीविनी बूटी कहा जाता है . पुदीना सभी के घर में मोजूद होता है और इसे हम बाज़ार से भी आसानी से प्राप्त कर सकते है. पुदीना सिर्फ अपने स्वाद के लिए ही नहीं बल्कि अपने गुणों से भी जाना जाता है . पुदीना माउथ फ्रेशनर का भी काम करता है. यह हाजमे के लिए भी फायदेमंद होता है.

वैसे तो पुदीने के कई औषधीय गुण है पर आज जानते है यह हमारी सेहत के लिए कितना फायदेमंद होता है.

  • पुदीने की पत्तियों को चबाने से अचानक आने वाली हिचकी जो की पानी पीने से भी बंद नही होती वह भी आनी बंद हो जाती है .
  • गर्मी के मौसम में कई बार ना चाहते हुए भी किसी ना किसी वजह से धूप में बाहर जाना पड़ता है. तेज़ धूप और गरम हवा के कारण हमें लू लगने की संभावना रहती है इसलिए लू लगने के बाद आपको पुदीने का जूस पीने से गर्मी और लू दोनों से राहत मिल जाएगी.
  • ज्यादातर बिमारियाँ गलत खानपान के कारण होती है. और गलत खानपान के कारण पेट में गैस बन जाती है जिससे पेट में दर्द होने लगता है. बच्चों के पेट में भी कीड़ो की वजह से पेट में दर्द होने लगता है. इसके निवारण के लिए आपको बार बार डॉक्टर के पास जाने की आवश्यकता नही पडेगी.एक चम्मच पुदीने का रस और एक चम्मच नीम्बू का रस लेकर इसमें आधा चम्मच अदरक का रस मिलाए. फिर इसमें थोडा सा काला नमक डाले. इस मिश्रण को दिन में दो से तीन बार पीने से पेट दर्द से आपको राहत मिलेगी.
  • अकसर बाहर का खाना खाने से बदहजमी की शिकायत हो जाती है और इसके कारण हमें उल्टियाँ होने लगती है. अगर आपको उल्टी हो रही हो या फिर उल्टी जैसा मन हो रहा हो तो आप पुदीने का रस दो -तीन बार पिए. ऐसा करने से आपका उल्टी जैसा लगना बंद हो जाएगा.
  • पुदीने का रस रोज़ रात में चेहरे पर लगाने से कील, मुहांसे, और त्वचा का रूखापन दूर होता है.
  • पुदीने का रस कालीमिर्च और काले नमक के साथ चाय की तरह उबालकर पीने से जुखाम, खांसी और बुखार से राहत मिलती है.
  • मासिक धर्म समय पर न आने पर पुदीने की सूखी पत्तियों के चूर्ण को शहद में समान मात्रा में मिलाकर दिन में दो से तीन बार नियमित रूप से सेवन करने पर लाभ मिलता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles