पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में बीजेपी के प्रदर्शन के दौरान कथित तौर पर पुलिस की और से एक सिख जवान को पीटने और उसकी पगड़ी की बेअदबी करने का मामला सामने आया है। बीजेपी ने आरोप लगाया है कि कोलकाता पुलिस ने सिख की पगड़ी खींच कर धार्मिक भावनाओं को आहत किया है।

जानकारी के अनुसार, बीजेपी की युवा शाखा भारतीय जनता युवा मोर्चा (BJYM) द्वारा आयोजित ‘नबन्ना चलो अभियान’ के दौरान पार्टी कार्यकर्ताओं ने पुलिसकर्मियों पर पत्थर और ईटों से वार किया और टायरों में आग लगा दी। जिसके बाद पुलिस को बीजेपी कार्यकर्ताओं पर लाठी चार्ज करना पड़ा।

इस दौरान पुलिस ने बठिंडा के रहने वाले 43 वर्षीय सिख शख्स बलविंदर सिंह को हिरासत में लिया। इस दौरान उनकी पुलिस से हाथापाई हुई और उनकी पगड़ी गिर गई। पुलिस ने बलविंदर सिंह के पास से 9 एमम की एक पिस्तौल भी जब्त की। राज्य सरकार का कहना है कि भाजपा प्रदर्शनकारियों ने पुलिसकर्मियों पर बम फेंके और हावड़ा मैदान से एक भाजपा कार्यकर्ता को भरी हुई पिस्तौल के साथ भी गिरफ्तार किया गया है।

वहीं इस मामले में पूर्व क्रिकेटर हरभजन सिंह ने नाराजगी जताई है और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से इस मसले को देखने का अनुरोध किया है। हरभजन सिंह ने बीजेपी नेता इंप्रीत सिंह बक्शी का एक वीडियो ट्विटर पर शेयर करते हुए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से मामले में कार्रवाई की मांग की है।

इस पूरे घटनाक्रम पर पश्चिम बंगाल पुलिस ने अपनी सफाई जारी की है। अपने बयान में पुलिस ने कहा है कि संबंधित व्यक्ति कल के विरोध प्रदर्शन में हथियार ले जा रहा था। हमारे अधिकारी के साथ हाथापाई में पगड़ी अपने आप गिर गई (ऐसी कोई कोशिश नहीं की गई). किसी भी समुदाय की भावनाओं को आहत करना हमारा उद्देश्य नहीं है। इसके साथ ही पुलिस ने उस घटना का वीडियो भी ट्विटर पर शेयर किया है जिसमें एक पुलिसकर्मी संबंधित व्यक्ति को खींचते हुए नजर आ रहा है।

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano