तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तैयप एर्दोआन ने ईद के मौके पर कोरोना कर्फ़्यू से छूट देने से इंकार कर दिया। इसके साथ ही उन्होने 23-26 मई के बीच ईद-उल-फितर की छुट्टी के लिए 4 दिवसीय राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन की घोषणा कर दी।

एर्दोआन ने कोरोनोवायरस महामारी के खि’लाफ किए गए उपायों के एक भाग के रूप में ये फैसला साप्ताहिक कैबिनेट बैठक में किया। अंकारा ने नए कोरोनोवायरस के प्रसार को धीमा करने के लिए, पिछले पांच सप्ताहांतों के साथ-साथ राष्ट्रीय अवकाशों पर भी प्रमुख शहरों में लॉकडाउन किया है।

ईद पर तुर्की में आमतौर पर छुट्टी रहती है, ईद रमजान के पवित्र महीने के अंत को चिह्नित करती है। ऐसे में तीन दिन की अवधि के लिए ईद की छुट्टी रहती है, इस साल की छुट्टियों की अवधि 24-26 मई के बीच पड़ने वाली है। एर्दोआन ने यह भी कहा कि तुर्की के स्कूल इस अवधि को फिर से नहीं खोलेंगे और नया स्कूल वर्ष सितंबर में शुरू होगा।राष्ट्रपति ने कहा कि यात्रा प्रतिबंधों को तुर्की के 15 प्रांतों में 15 दिनों तक बढ़ाया जाएगा।

इसके अलावा, कोरोनोवायरस उपायों के हिस्से के रूप में रि’हा किए गए कै’दियों के लिए घर की गि’रफ्ता’री की अवधि दो महीने के लिए बढ़ा दी गई थी। तुर्की इस प्रकोप के खि’लाफ लड़ाई को सफलतापूर्वक जीत रहा है, एर्दोआन ने कहा, नागरिकों को सामाजिक भेद नियमों का पालन करने के लिए कहा, चे’ताव’नी दी कि वायरस के प्रसार में वृद्धि होने पर कठोर उपायों को अपनाया जा सकता है।

एर्दोआन ने कहा कि देश को चिकित्सा और स्वच्छता उपकरणों की मांग को पूरा करने में कोई कठिनाई नहीं हो रही थी। उन्होंने म’हामा’री को ख’त्म करने के लिए एकमात्र तरीका जोर दिया कि विश्व स्तर पर वायरस को ख’त्म किया जाए। तुर्की ने धीरे-धीरे हाल के हफ्तों में पोस्ट-कोरोनावायरस सामान्यीकरण के लिए कदम उठाना शुरू कर दिया है।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन