नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने हापुड़ में गौरक्षा के नाम पर कासिम की हत्या के मामले में सोमवार को उत्तर प्रदेश सरकार को नोटिस जारी किया है। कोर्ट ने मेरठ रेंज के पुलिस महानिरीक्षक को इस मामले की जांच कर दो सप्ताह के भीतर रिपोर्ट पेश करने का भी निर्देश दिया है।

हमले में जीवित बचे समीउद्दीन की याचिका पर सुनवाई करते हुए सीजेआई दीपक मिश्रा, जस्टिस डी वाई चंद्रचूड़ और जस्टिस इंदिरा बनर्जी की पीठ ने कील वृंदा ग्रोवर के आग्रह पर विचार किया कि याचिका पर जल्द सुनवाई की आवश्यकता है क्योंकि उत्तर प्रदेश पुलिस ने इस घटना को रोड रेज का मामला बताया है जबकि इसमे 45 वर्षीय मांस कारोबारी कासिम कुरैशी मारा गया।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

आपको बता दें कि एनडीटीवी की स्टिंग टीम हापुड़ के बजेड़ा खुर्द गांव में आरोपी युद्धिष्ठिर सिंह सिंसोदिया से मिलने गई थी। सिसोदिया ने कोर्ट में बयान दिया है कि उसकी हमले में कोई भूमिका नहीं है और वह घटनास्थल पर भी मौजूद नहीं था। लेकिन उसने एनडीटीवी की टीम से बातचीत कहा कि उसने इस घटना में शामिल होने की बात जेल अधिकारियों को भी बताई थी।सिसोदिया ने कहा, हां, मैंने बोला कि वो गाय काट रहे थे, मैंने उसको काट दिया…जेलर के सामने..

जिसके बाद समीउद्दीन ने याचिका दाखिल कर घटना की विशेष जांच दल से जांच कराने और इससे संबंधित मुकदमे की सुनवाई राज्य से बाहर कराने का अनुरोध किया। याचिका में एसआईटी में यूपी के बाहर के अफ़सरों के होने, आरोपियों की ज़मानत रद्द करने, ट्रायल उत्तर प्रदेश से बाहर करवाए जाने की भी मांग की गई।

दूसरी और प्रदेश के अपर पुलिस महानिदेशक (कानून-व्यवस्था) आनंद कुमार ने बताया कि मुख्य आरोपी की ज़मानत निरस्त करने के लिए कोर्ट में अर्जी दे दी है। पुलिस की अर्जी पर डिस्ट्रिक्ट कोर्ट ने आरोपी को नोटिस भेजा है।

Loading...