जयपुर – लॉकडाउन के बाद देश में अचानक से रेप के मामलों में बढ़ोतरी हुई है, हाथरस का मामला आजकल सुर्खियों में छाया हुआ है लेकिन वहीँ अन्य राज्य से भी लगातार रेप की घटनाएं सामने आ रही हैं. हालाँकि गैर बीजेपी शासित राज्यों में हुई घटनाओं को मीडिया में उतनी कवरेज नही मिलती जितनी भाजपा शासित सरकार में हुई अपराधों को मिलती हैं. राजस्थान में नाबालिग बच्चियों के रेप में अचानक से बढ़ोतरी आई है, उसपर सोने पर सुहागा वहां के डीजीपी का बयान है जिसे लेकर माहौल गर्म होता नज़र आ रहा है.

राजस्थान डीजीपी ने कहा कि नाबालिग बच्चियों के साथ रेप के मामले इसलिए बढ़ रहे हैं, क्योंकि बच्चे कम उम्र में उत्साह में दोस्ती कर लेते हैं और फिर आगे बढ़ जाते हैं। इसकी वजह से इस तरह के मामलों में बढ़ोतरी देखी जा रही है।

डीजीपी यहीं नहीं रुके। रेप के मामलों पर उन्होने एक और अजीबोगरीब तर्क किया। उन्होंने कहा कि हाल ही में एक नया ट्रेंड देख जा रहा है कि पब्लिक डिस्प्यूट और आपसी झगड़े को सेट करने के लिए भी झूठे रेप केस किये जा रहे हैं। डीजीपी ने बेरोजगारी, युवाओं की बढ़ती संख्‍या और इंटरनेट को हिंसक अपराध के लिए जिम्‍मेदार ठहराया है।

दरअसल हाल के दिनों में राजस्थान में भी रेप केसेज के मामले बेहताश बढ़े हैं। उत्तर प्रदेश के हाथरस कांड के बाद देशभर में बवाल मचा हुआ है. वहीं राजस्थान में भी पिछले दिनों जयपुर, अजमेर, बारां और सीकर में रेप केस के मामले सामने आये हैं।

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano