राफेल डील मामले में यूपीए की सहयोगी दल राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के प्रमुख शरद पवार द्वारा मोदी सरकार को समर्थन देने से नाराज लोकसभा सांसद तारिक अनवरने संंसद और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी से इस्‍तीफा दे दिया है। तारिक अनवर एनसीपी के बड़े नेताओं में से एक थे और उनका इस तरह इस्तीफा देना पार्टी के लिए झटका है।

दरअसल, गुरुवार को राकांपा अध्यक्ष शरद पवार ने कहा था कि पीएम मोदी के इरादों पर शक नहीं किया जा सकता है।मराठी न्यूज चैनल को दिए इंटरव्यू में पवार ने कहा कि कांग्रेस की मांगों का कोई औचित्य नहीं है। हालांकि, उन्होंने यह भी कहा कि फाइटर प्लेन की कीमतों का खुलासा करने से सरकार को कोई खतरा नहीं होता। उन्होंने कहा ‘निजी तौर पर मुझे लगता है कि लोगों को पीएम मोदी के इरादों पर कोई शंका नहीं है।’

यूपीए सरकार में कृषि मंत्री रहे शरद पवार ने कहा कि इस मुद्दे पर रक्षा निर्मला सीतारमण ने सफाई दे इससे कन्फ्यूजन पैदा हुई। उन्होंने कहा कि अब इस मुद्दे पर रक्षा मंत्री के बजाय वित्त मंत्री अरुण जेटली को सफाई देते देखा जा सकता है।पवार देश के पूर्व रक्षा मंत्री रहे हैं और विपक्षी दल के प्रमुख नेता भी हैं। इसलिए उनका यह बयान काफी महत्वपूर्ण है।

तारिक अनवर ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पूरी तरह राफेल डील सौदे में लिप्त हैं और वे अभी तक अपने को पाक साफ साबित करने में विफल रहे हैं। फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति द्वारा इस संबंध में दिए गए बयान से राफेल डील में घोटाला की संपुष्टि होती है। एेेसे में पार्टी अध्यक्ष शरद पवार का बयान नरेंद्र मोदी के बचाव में है जिससे मैं पूरी तरह से असहमत हूं।और मैं पार्टी तथा लोकसभा सीट से अपना इस्तीफा दे रहा हूं।

अनवर ने कहा कि शरद पवार का मैं व्यक्तिगत रूप से सम्मान करता हूं लेकिन इस मुद्दे पर उनके बयान को दुर्भाग्यपूर्ण है। इस बयान से मैं आहत हूं और मैंने ये कदम उठाया है।

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें