नागरिकता संशोधन कानून (CAA) का विरोध और समर्थन सड़कों से अब स्टेडियम तक जा पहुंचा है। मंगलवार को भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच मैच के दौरान वानखेड़े स्टेडियम में CAA-NRC के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन हुआ।

दर्शक दीर्घा में बैठे कुछ युवाओं ने मैच के दौरान नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजंस (एनआरसी) और नेशनल पॉपुलेशन रजिस्टर (एनपीआर) के खिलाफ प्रदर्शन कर अपना विरोध दर्ज कराया।

ये छात्र ‘मुंबई अगेन्स्ट सीएए’ समूह से जुड़े थे। इस समूह से जुड़े फवाद अहमद ने कहा, ‘इसमें 26 कुछ 26 लोग शामिल थे जो विजय मर्चेंट पैवेलियन की तरफ बैठे थे। भारतीय टीम का विकेट जल्दी जल्दी गिरने लगा तब वे खुद ही मैदान से बाहर चले गए।’

मैच के दौरान सीएए, एनआरसी और एनपीआर के खिलाफ प्रदर्शन करने वाले इन छात्रों में कई लड़कियां भी शामिल थीं। ये सभी अपनी शर्ट के नीचे पहनी टीशर्ट पर नो सीएए, एनआरसी और नो एनपीआर लिखकर आए थे। मैच शुरू होने के थोड़ी ही देर बाद ये सभी छात्र अपनी शर्ट के बटन खोलकर एक क्रम में खड़े हो गए, जिसके बाद टीशर्ट पर लिखा ‘नो सीएए, नो एनआरसी, नो एनपीआर’ का नारा साफ देखा जा सकता था।

विरोध प्रदर्शन में शामिल एक दर्शक ने कहा कि हम शांतिपूर्ण ढंग से अपना संदेश देने के लिए स्टेडियम पहुंचे। हमने अपना संदेश दिखाने के अलावा कुछ भी नहीं किया. हमारी टी शर्ट पर लिखा है। BCCI नियम यह भी पुष्टि करता है कि आप अपने संदेश को वाणिज्यिक संदेशों से अलग कर सकते हैं। हम पिछले कई दिनों से विरोध कर रहे हैं, लेकिन अब तक पीएम मोदी ने सीएए, एनआरसी और एनपीआर पर बात करने के लिए हमसे संपर्क नहीं किया है।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन