Tuesday, August 3, 2021

 

 

 

पाकिस्तान ने फिर उठाया दिल्ली हिंसा का मुद्दा, कहा – ‘गंभीर चिंता का विषय’

- Advertisement -
- Advertisement -

इस्लामाबाद: पाकिस्तान ने गुरुवार को दिल्ली में हाल ही में हुई सांप्रदायिक हिंसा की निंदा की और अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को “भेदभावपूर्ण और अल्पसंख्यक विरोधी नीतियों” को रोकने के लिए भारत सरकार से “व्यावहारिक कदम” उठाने को कहा। विदेश कार्यालय की प्रवक्ता आइशा फारूकी ने कहा, “नई दिल्ली में मुसलमानों के खिलाफ बड़े पैमाने पर लक्षित हिंसा, जो भाजपा नेताओं द्वारा मुसलमानों के खिलाफ अत्यधिक सांप्रदायिक बयानों की पृष्ठभूमि में हुई है, गंभीर चिंता का विषय है और यह बहुत ही निंदनीय है।”

उन्होने हिंसा के दौरान “इबादतगाहों की निर्दयता और बर्बरता” की भी निंदा की। उन्होने कहा, “हम उम्मीद करते हैं कि संयुक्त राष्ट्र, OIC और प्रासंगिक मानवाधिकार संगठनों सहित अंतर्राष्ट्रीय समुदाय भारत सरकार को भेदभावपूर्ण और अल्पसंख्यक विरोधी नीतियों को रोकने के लिए व्यावहारिक कदम उठाने के लिए और अल्पसंख्यकों, विशेष रूप से मुसलमानों, उनके पूजा स्थलों और संपत्तियों को सुरक्षा प्रदान करने के लिए आवाज उठाएंगे।

इससे पहले पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा था कि वह बार-बार यह कहते रहे हैं कि मोदी का हिंदू वर्चस्ववादी एजेंडा 1930 के दशक में यहूदियों के नाजी पोग्रोम से जुड़ा हुआ है। उन्होने ट्वीट में, “जैसा कि मैंने बार-बार कहा है, मोदी का हिंदू वर्चस्ववादी एजेंडा 1930 के दशक में यहूदियों के नाजी पोग्रोम से जुड़ा हुआ है, जबकि प्रमुख शक्तियों ने हिटलर का समर्थन किया। मोदी ने सीएम के रूप में गुजरात में मुस्लिमों के खिलाफ ये पोग्रोम चलाया और अब हम नई दिल्ली में भी ऐसा ही देख रहे हैं।

उन्होंने यह भी लिखा, “मुस्लिम घरों और व्यवसायों से निकलने वाली छवियां, मुसलमानों को पीटा और मारा जा रहा है, मस्जिदों और कब्रिस्तानों को जलाया और उजाड़ा जा रहा है, नाजी जर्मनी में पोग्रोम से भागने वाले यहूदियों के समान हैं। दुनिया को मोदी फासीवादी नस्लवादी शासन की इस क्रूर सच्चाई को स्वीकार करना चाहिए और इसे रोकना चाहिए ”।

उनके ट्विटर अकाउंट पर एक क्लिप भी अपलोड की गई, जिसमें प्रिया गोपाल जो कैम्ब्रिज यूनी में लेक्चरर हैं, ने कहा कि नई दिल्ली में मुसलमानों, उनकी मस्जिदों, घरों और व्यवसायों पर किए गए हमले यहूदियों पर नाजियों द्वारा किए गए हमले की तरह हैं।

इससे पहले उन्होने कहा था कि भारत में 20 करोड़ मुसलमानों को निशाना बनाया जा रहा है। इमरान ख़ान ने ट्वीट कर कहा, ”हम देख रहे हैं कि नाज़ी-प्रेरित आरएसएस विचारधारा परमाणु शक्ति संपन्न और एक अरब से ज़्यादा आबादी वाले भारत की सत्ता को अपने हाथ में ले रहा है। जब भी नफ़रत आधारित नस्ली विचारधारा के हाथ में कोई देश आता है तो क़त्लेआम की तरफ़ बढ़ता है।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles