मुंबई: रज़ा एकडेमी प्रमुख अल्हाज मुहम्मद सईद नूरी ने शुक्रवार को मुलुंड के गौशाला रोड स्थित रज़ा जामा मस्जिद का दौरा किया।

जुम्मे की नमाज से पहले मस्जिद की जमीन का मुआयना कर उन्होंने नमाजियों को संबोधित करते हुए कहा कि मस्जिद, मदारिस, खानकाहों और कब्रिस्तान की हिफाजत करना हर मोमिन की जिम्मेदारी है।

उन्होंने मस्जिद के हवाले से कहा कि कभी भी किसी भी वक्त आप लोगों को रज़ा एकेडमी से किसी भी तरह की मदद की दरकार है। रज़ा एकेडमी हर समय सहयोग के लिए तैयार है। उन्होंने स्थानीय लोगों से शांति बनाए रखने की भी अपील की।

उन्होंने बताया कि मुंबई ग्रेटर रोड्स और स्लिम डेवलपमेंट के कारण मस्जिद को लेकर समस्या उत्पन्न हो गई। इस कारण यहां के स्थानीय मुसलमानों में संशय और डर का माहौल बना हुआ है।

नूरी साहब ने कहा कि रज़ा मस्जिद झोपड़ पट्टी इलाके में स्थित है और यहां मुस्लिमों की संख्या भी काफी कम है। लेकिन मिलंड स्टेशन के नजदीक होने से शुक्रवार को बड़ी संख्या में व्यपारी जुम्मे की नमाज इसी मस्जिद में अदा करते है। इस दौरान नूरी साहब ने स्थानीय लोगों से तहफ्फुज ए नामुस ए रिसालत बोर्ड की मुहिम से भी जुड़ने की अपील की।