asifa father 620x400

जम्‍मू-कश्‍मीर के कठुआ में आठ साल की बच्‍ची के साथ मंदिर में बलात्कार और सामूहिक हत्या के मामले में की जा रही सीबीआई जांच की मांग को पीड़ित परिवार ने खारिज कर दिया. परिवार का कहना है कि वह क्राइम ब्रांच की जांच से संतुष्ट है.

NDTV से बातचीत में पीड़ित परिवार ने कहा कि जब रिपोर्ट लिखाई तब आरोपी को नहीं पकड़ा गया और आरोपी छूटे तो उनकी जान को ख़तरा हो सकता है. परिवार का कहना है कि इंसाफ़ दो या मार डालो. परिवार का कहना है कि सांझी राम बेगुनाह नहीं है.

उन्‍होंने कहा कि बहुत लोग उनके पास आए और कहा कि CBI जांच की मांग करो. इस मामले में दो मुख्य आरोपियों ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर सीबीआई को जांच सौंपने की मांग की थी ताकि उन्‍हें न्‍याय मिल सके.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

बता दें कि मामले के मास्टरमाइंड सांझी राम ने अपना जुर्म कबूल कर लिया है. उसने स्वीकार किया कि उसने बच्ची की हत्या बलात्कार में शामिल अपने बेटे को बचाने के लिए की थी. सांझी राम ने पूछताछ के दौरान बताया कि उसे बच्ची के अपहरण के चार दिन बाद उससे बलात्कार होने की बात पता चली और बलात्कार में अपने बेटे के भी शामिल होने का पता चलने पर उसने बच्ची की हत्या करने का फैसला किया.

जांचकर्ताओं के अनुसार, 10 जनवरी को बच्ची से उसी दिन सबसे पहले सांझी राम के नाबालिग भतीजे ने बलात्कार किया था. सांझी राम को इस घटना की जानकारी 13 जनवरी को मिली जब उसके भतीजे ने अपना गुनाह कबूल किया.