meca

हैदराबाद की ऐतहासिक मक्का मस्जिद ब्लास्ट मामले में मुख्य आरोपी स्वामी असीमानंद सहित सभी 5 आरोपियों को बरी करने वाले एनआईए स्पेशल कोर्ट के जज रवींद्र रेड्डी ने अपना इस्तीफा दे दिया है. रेड्डी ने अपना इस्तीफ़ा हाई कोर्ट को भेजा है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार जज रेड्डी ने कहा है कि उन्होंने इस्तीफ़ा निजी कारणों से दिया है और इसका मक्का मस्जिद में धमाके के फ़ैसले से कोई संबंध नहीं है. बता दें कि रेड्डी ने सभी आरोपियों को सबूतों के अभाव में बरी किया.

18 मई 2007 को हुए इस ब्लास्ट में 9 मारे गए थे जबकि 58 घायल हुए थे. बाद में प्रदर्शनकारियों पर हुई पुलिस फायरिंग में भी कुछ लोग मारे गए थे. रिपोर्ट के मुताबिक शुरुआती जांच के बाद स्थानीय पुलिस ने यह मामला केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) को सौंप दिया था.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

जज रवींद्र रेड्डी

सीबीआई ने इस मामले में 10 लोगों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की थी. लेकिन अप्रैल 2011 में इसकी जांच एनआईए के हाथ में आ गई थी. इस मामले की सुनवाई के दौरान 226 गवाहों और 411 दस्तावेजों की पड़ताल की गई.

मक्का मस्जिद धमाका मामले में 10 आरोपितों में से केवल असीमानंद सहित के पांच आरोपितों की ही गिरफ्तारी हो पाई थी. असीमानंद ने पहले इस धमाके में दक्षिणपंथी कार्यकर्ताओं के शामिल होने की बात कही थी लेकिन बाद में अपने बयान से मुकर गए थे.

इसके अलावा मक्का मस्जिद बम धमाका मामले की जांच के दौरान राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के पूर्व पदाधिकारी सुनील जोशी की हत्या कर दी गई थी. साथ ही पूर्व आरएसएस कार्यकर्ता संदीप वी डांगे और आरएसएस कार्यकर्ता रामचंद्र कालसांगरा अभी तक फरार हैं.

Loading...