नई दिल्ली | देश के करीब 9 हजार करोड़ रूपए डकारने के बाद लंदन भागे विजय माल्या की कल गिरफ्तारी की खबर आई थी. यह खबर आते ही भारतीय मीडिया ने इसे मोदी मैजिक के रूप में प्रस्तुत करना शुरू कर दिया. लेकिन करीब 3 घंटे बाद माल्या को जमानत मिल गयी. हालाँकि मोदी सरकार का कहना है की माल्या के प्रत्यर्पण की प्रक्रिया सही दिशा में चल रही है.

उधर माल्या की गिरफ्तारी को मोदी मैजिक बताने वाली मीडिया पर दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने खूब तंज कसा है. उन्होंने भारतीय मीडिया को मोदी की चाटुकारिता करने वाला बताते हुए ट्वीट किया ,’ सुनवाई के लिए कोर्ट गए आदमी को गिरफ्तार बताकर, मोदी आरतियां-चालीसाएं लिखने वाले पत्रकारों को एक बार रागदरबारी ज़रूर पढ़ लेना चाहिए.’

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

सिसोदिया ही नही बल्कि खुद विजय माल्या ने भी भारतीय मीडिया की आलोचना करते हुए कहा की उनकी गिरफ़्तारी को भारतीय मीडिया हाइप दे रहा है. जबकि वो प्रत्यर्पण केस में सुनवाई के लिए कोर्ट गए थे. जैसे की उम्मीद थी इसकी सुनवाई आज शुरू हो गयी. यह पहली बार नही है जब आम आदमी पार्टी की तरफ से मीडिया पर एकपक्षीय होने का आरोप लगा है.

यही नही केजरीवाल सरकार ने टाइम्स नाउ के पत्रकारो को सरकार की किसी भी प्रेस वार्ता में आने पर रोक लगा चुकी है. इसके अलावा मनीष सिसोदिया ने एक प्रेस वार्ता के दौरान टाइम्स नाउ के ही पत्रकार को फटकार लगाते हुए कहा था की आप बीजेपी के सवालों के बजाय अपने सवाल पूछिए. हालाँकि मनीष के आरोप में थोड़ी सच्चाई भी नजर आती है क्योकि कुछ मीडिया ग्रुप का झुकाव मोदी और बीजेपी के प्रति देखने को मिलता है.

Loading...