auto

auto

आगरा – आखिर वोटो के लिए कुछ पार्टियाँ किस हद तक गिर सकती है इसकी बानगी कल ताजनगरी आगरा में देखने को मिली, जहाँ एक दिन बाद वोटिंग होनी है उससे पहले हर तरह से कोशिश की गयी की चुनाव के समीकरण साम्प्रदायिकता के आधार पर तय हो जाये. शहर में सोमवार देर रात शराब की दुकान पर एक शख्स की मौत हो गई। इसके बाद कुछ लोगों ने अल्पसंख्यकों को टारगेट करके तोड़फोड़ की। उन्होंने दुकानें और वाहन जला दिए। मृतक के परिचितों का कहना है कि शव परीक्षण में सामने आया है कि उसकी मौत हार्ट अटैक की वजह से हुई थी। मृतक के परिचित भी हैरान हैं कि आखिर यह घटना सांप्रदायिक क्यों होती जा रही है। पुलिस अधिकारी और अन्य लोग इसे चुनाव के दूसरे चरण के पहले ध्रुवीकरण की कोशिश के तौर पर देखते हैं।

हालाँकि चुनावों के मद्दे नज़र जहाँ पुलिस को तुरंत कारवाई करनी चाहिए थी वहां पुलिस ने अल्पसंख्यकों की दुकाने जलाये जाने का इंतज़ार किया. सोमवार देर रात 30-40 लोगों के ग्रुप ने कई वाहनों को आग के हवाले कर दिया और छोटी दुकानों में भी आग लगा दी। उन्होंने पत्थरबाजी भी की। दरअसल उसी रात एक 27 वर्षीय शख्स की शराब की दुकान पर मौत हो गई थी। मृतक की पहचान सोनू जाटव के तौर पर हुई। वह जूते की फैक्ट्री में काम करता था और वहीं अपने परिवार के साथ रहता था।

टाइम्स ऑफ़ इंडिया की खबर के अनुसार मृतक के पड़ोसी और जूते की फैक्ट्री के मालिक अश्वनी कुमार ने बताया कि उन्होंने ही मामले की जानकारी पुलिस को दी और शिकायत दर्ज कराई। उन्होंने कहा, ‘हमें नहीं पता कि दक्षिण पंथियों ने आगजनी और तोड़फोड़ क्यों की, जबकि उन्होंने किसी से मदद नहीं मांगी थी।’

उन्होंने कहा, ‘जब हम सोनू का शव घर लाए तो भीड़ में कुछ लोग चिल्लाए कि उसकी हत्या की गई है। इसके बाद हालात बेकाबू हो गए और कुछ लोगों ने आगजनी और पत्थरबाजी शुरू कर दी। पुलिस के आने के बाद ही स्थिति सामान्य हो पाई।’ अश्वनी ने बताया, ‘मंगलवार को पोस्टमॉर्टम हाउस में भी लगभग 70 लोग आए थे। उनके साथ कुछ स्थानीय नेता भी थे, लेकिन वहां कुछ नहीं हुआ।’

एक सीनियर IPS ऑफिसर ने संदेह जताया कि दूसरे चरण के चुनावों से पहले ध्रुवीकरण की एक कोशिश की गई। उन्होंने कहा, ‘मेरा मानना है कि कुछ उपद्रवी इस घटना को सांप्रदायिक बनाना चाहते हैं। इस इलाके में हिंदू और मुस्लिम दोनों की आबादी है और ज्यादातर मुस्लिम जूते की फैक्ट्री में काम करते हैं।’ आगरा रेंज के DIG महेश कुमार मिश्रा ने बताया, ‘शव परीक्षण में पता चल गया था कि मौत हार्ट अटैक की वजह से हुई इसलिए एफआईआर दर्ज नहीं की गई। हम उन लोगों की शिकायत का इंतजार कर रहे हैं जिनकी संपत्ति को नुकसान पहुंचाया गया है।’


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें