कर्नाटक में सरकार बनाने के लिए राज्यपाल की तरफ से बीजेपी विधायक दल के नेता येदियुरप्पा को सरकार बनाने का निमंत्रण देने का के बाद बुधवार को देर रात को कांग्रेस और जेडीएस सुप्रीम कोर्ट पहुँच गई. हालाँकि सुप्रीम कोर्ट ने शपथग्रहण पर रोक लगाने से इंकार कर दिया.

कांग्रेस की अर्जी पर तीन घंटे से अधिक चली सुनवाई के बाद सर्वोच्च न्यायालय ने कहा कि राज्यपाल के फैसले पर रोक नहीं लगाई जा सकती है. हालांकि कोर्ट ने कांग्रेस और जेडीएस की याचिका भी खारिज नहीं की है. लेकिन कोर्ट ने कहा कि यह याचिका बाद में सुनवाई का विषय है.’

इसके साथ ही दोनों पक्षों सहित बीएस येदियुरप्पा को भी एक जवाब दाखिल करने का नोटिस जारी किया है. सुप्रीम कोर्ट ने आज सुबह 10:30 बजे तक दोनों पक्षों को अपने-अपने विधायकों की लिस्ट सौंपने को कहा है.

कर्नाटक

बता दें कि राज्यपाल वजुभाई वाला ने देर शाम भाजपा विधायक दल के नेता बीएस येदियुरप्पा को सरकार बनाने का न्योता दिया था. उन्हें बहुमत साबित करने के लिए 15 दिन का समय मिला.

जस्टिस एके सीकरी, जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस शरद अरविंद बोबड़े की बेंच ने आधी रात दो बजे के बाद से इस मामले पर सुनवाई की. अदालत के सामने कांग्रेस का पक्ष अभिषेक मनु सिंघवी और भाजपा का पक्ष पूर्व अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने रखा.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?