जरूरत से ज्‍यादा पढ़ाई होने पर नहीं मिली नौकरी, अब हाईकोर्ट ने दिया ऐसा आदेश…

11:31 am Published by:-Hindi News

मद्रास उच्च न्यायालय ने बृहस्पतिवार को चेन्नई मेट्रो रेल लिमिटेड (सीएमआरएल) में नौकरी के लिए आवेदन करने वाली एक महिला का आवेदन इस आधार पर खारिज करने के निर्णय को बरकरार रखा कि उसकी योग्यता जरुरत से ज्यादा थी।

कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि जरूरत से ज्‍यादा क्वालिफाइड उम्मीदवार नौकरी न मिलने पर अधिकारों के उल्लंघन का दावा नहीं कर सकते। न्यायमूर्ति एस वैद्यनाथन ने आर लक्ष्मी प्रभा ने उनकी इसी अर्जी खारिज कर दिया।

दरअसल लक्ष्मी प्रभा महिला ने 2013 में चेन्नई मेट्रो रेल लिमिटेड (सीएमआरएल) में ट्रेनी ऑपरेटर पद के लिए अप्लाई किया था। इस नौकरी के लिए न्यूनतम क्वालिफिकेशन डिप्लोमा थी लेकिन महिला के पास इंजीनियरिंग की डिग्री है।

सीएमआरएल ने इसी को आधार मानते हुए जुलाई 2013 में उनके आवेदन को रद्द कर दिया था। जिसके बाद महिला ने कोर्ट का रुख किया। कोर्ट ने कहा कि सीएमआरएल द्वारा आवेदन खारिज होने पर महिला ये दावा नहीं कर सकती कि उसके अधिकारों का उल्लंघन हुआ है।

न्यायाधीश ने अपने आदेश में कहा, ‘इस मामले में न्यूनतम योग्यता स्पष्ट तौर पर उल्लेखित है और यह भी उल्लेख किया गया है कि जरुरत से अधिक योग्यता वाले अभ्यर्थी आवेदन नहीं करें।’

आदेश में कहा गया, ‘उपरोक्त उल्लेख के मद्देनजर अदालत के पास यह व्यवस्था देने के अलावा अन्य कोई विकल्प नहीं है कि याचिकाकर्ता जरुरत से अधिक योग्यता के आधार पर राहत की हकदार नहीं है और वर्तमान रिट याचिका खारिज करने योग्य है।

खानदानी सलीक़ेदार परिवार में शादी करने के इच्छुक हैं तो पहले फ़ोटो देखें फिर अपनी पसंद के लड़के/लड़की को रिश्ता भेजें (उर्दू मॅट्रिमोनी - फ्री ) क्लिक करें