hardd

पाटीदार आरक्षण और किसानों की ऋण माफी को लेकर पिछले 19 दिनों से अनशन कर रहे हार्दिक पटेल ने आज अपना अनशन खत्म कर दिया है। दरअसल, गुजरात सरकार ने उनकी एक भी मांग नहीं मानी। आखिरकार उनके समर्थकों ने उन्हें नारियल पानी पिलाकर अनशन तुड़वाया।

पवास खत्म करने के बाद हार्दिक ने कहा, ‘अपने समुदाय के लिए आरक्षण और कृषि कर्ज माफी के लिए लड़ाई जारी रहेगी।’ उन्होने कहा, ‘इस अनशन के दौरान कुछ लोग अंग्रेजों की भूमिका में रहे, तो कुछ क्रांतिकारियों की भूमिका निभाते हुए नज़र आए। हमारी लड़ाई पॉश बंगलों में रह रहे लोगों के लिए कभी नहीं थी। हमने हमेशा उनके लिए लड़ाई लड़ी, जिसके पास 5 बीघा जमीन है, जो 10 हजार रुपया महीना कमाने के लिए संघर्ष कर रहा है। हम उनकी लड़ाई लड़ते हैं, जिनके बेटे को अच्छे नंबर्स मिलने के बावजूद कॉलेज में दाखिला नहीं मिलता है।’

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

बता दें कि मंगलवार को उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने हार्दिक पटेल से मुलाकात की और अनुरोध किया कि वह अनशन खत्म कर दें। रावत ने संवाददाताओं को बताया कि उन्होंने पटेल को अनशन खत्म करने और इस मुद्दे को उजागर करने के लिए विरोध का कोई और माध्यम अपनाने की सलाह दी है

रावत ने कहा, ‘मैंने उनसे कहा है कि उनका जीवन देश के किसानों, पाटीदारों और युवाओं के लिए बेहद महत्वपूर्ण है। मैं उनसे अनशन खत्म करने की अपील करता हूं। भूख हड़ताल की जगह उन्हें विरोध के अन्य माध्यम अपनाने चाहिए जैसे कि प्रदर्शन या पैदल यात्रा।’

गौरतलब है कि हार्दिक पटेल को अपने अनशन के दौरान कई राजनीतिक दलों का समर्थन मिला। अखिलेश यादव, तेजस्वी यादव, अरविंद केजरीवाल जैसे बड़े नेताओं ने भी उनको समर्थन का ऐलान किया था। इसके अलावा बीजेपी सांसद शत्रुघ्न सिन्हा और पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा ने भी हार्दिक से मुलाकात की थी।

Loading...