2_010217024440

बंगलौर | नए साल के मौके पर दुनिया भर में जश्न मनाया जाता है. इस दिन न जाने कितने लोग पब और बार में जाकर जश्न मनाते है, वहां शराब पीते है. इनमे लड़के लडकिया , दोनों ही शामिल होते है. जैसे लड़के नए साल पर जश्न मनाना चाहते है उसी तरह लडकिया भी इस दिन को अच्छे से सेलिब्रेट करना चाहती है. ऐसे में कुछ हुडदंगी लडकियों को परेशान करते है, उनके साथ छेड़छड करते है.

ऐसा ही कुछ हुआ देश के IT हब, बंगलौर में. 31 दिसम्बर की रात को यहाँ की एम्जी रोड और ब्रिगेड रोड पर हजारो युवक और युवतिया नए साल का जश्न मनाने सडको पर उतरे. इस हुजूम में महिलाये और बच्चे भी शामिल थे. सुरक्षा के मद्देनजर यहाँ काफी पुलिस और अन्य सुरक्षाबल तेनात किये गए थे. इतनी सुरक्षा होने के बावजूद यहाँ कुछ हुडदंगियो ने लडकियों पर भद्दे और अश्लील कमेंट करने शुरू कर दिए. कुछ लडकियों ने बताया की उनके साथ लडको ने छेड़छड भी की .

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

बंगलौर मिरर अख़बार ने कई लडकियों की रोते हुए, हाथ में सेंडल ले भागते हुए की तस्वीरे छापी है. अख़बार के अनुसार लड़के , लडकियों के साथ लगातार छेड़छड करते रहे और लडकियों रो रोकर पुलिस वालो से गुहार लगाती रही. लेकिन किसी भी पुलिस वाले ने लडकियों की मदद करने की जरुरत नही समझी. हालाँकि पुलिस का कहना है की हमारे पास अभी तक किसी छेड़छड की शिकायत दर्ज नही की गयी है. लेकिन फिर भी हम आरोपियों को पकड़कर उन पर कार्यवाही करने का प्रयास करेंगे.

उधर राज्य सरकार के गृहमंत्री जी परमेश्वर ने बड़ा ही शर्मनाक बयान देते हुए कहा की हमारे युवा पश्चिम सभ्यता के जाल में फंस चुके है. वो पश्चिमी सभ्यता के हिसाब से जश्न मनाते है और कपडे पहनते है. मंत्री के इस शर्मनाक बयान पर राष्ट्रिय महिला आयोग ने संज्ञान लेते हुए कड़ी प्रतिक्रिया दी है. महिला आयोग ने मंत्री से देश की लडकियों से माफ़ी मांगे और इस्तीफा देने की मांग की.

महिला आयोग की और से जारी बयान में कहा गया की क्या मंत्री जी यह कहना चाहते है की हमारे देश के युवा इतने कमजोर है की वो लडकियों को पश्चिमी ड्रेस में देखकर अपना आपा खो देते है. मंत्री जी को इस बयान के लिए माफ़ी मांगनी चाहिए और अपने पद से इस्तीफा दे देना चाहिय.

Loading...