मधुबनी से फातमी समेत तीन उम्मीदवारों ने नामांकन लिया वापस, शकील अहमद निर्दलीय मैदान में

6:55 pm Published by:-Hindi News

पूर्व केंद्रीय मंत्री मोहम्मद अली अशरफ फातमी ने मतविभाजन से भाजपा प्रत्याशी को फायदा पहुंचने की आशंका व्यक्त करते हुए सोमवार को अपना नामांकन वापस ले लिया। उन्होंने हाल में राजद छोड़ दिया था और बसपा के टिकट पर मधुबनी लोकसभा सीट से चुनावी मैदान में उतरे थे।

नामांकन वापसी के आखिरी दिन पूर्व केन्द्रीय मंत्री एवं बसपा उम्मीदवार मो. अली अशरफ फातमी, भारतीय मोमीन फ्रंट उम्मीदवार नजीर अहमद अंसारी तथा स्वतंत्र उम्मीदवार समीउल्लाह खां ने अपना-अपना नामांकन वापस ले लिया। इसके बाद अब मधुबनी लोकसभा क्षेत्र से कुल 17 उम्मीदवार चुनावी मैदान में रह गए है।

फातमी ने फोन पर ‘भाषा को बताया, “मैंने अपने करीबी समर्थकों की प्रतिक्रिया के आधार पर यह निर्णय लिया, जिनके आग्रह पर मैंने नामांकन पत्र दाखिल किया था।” उन्होंने कहा कि शकील अहमद के चुनावी मैदान से हटने की अनिच्छा प्रकट किए जाने से वोट हमारे बीच बंट जाते, जिससे भाजपा को मदद मिलती।

विपक्षी “महागठबंधन” के भीतर सीट-बंटवारे के तहत विकासशील इंसान पार्टी के खाते में मधुबनी की सीट चले जाने के कारण पूर्व केंद्रीय मंत्री और मधुबनी से पूर्व सांसद अहमद निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चुनाव मैदान में हैं। फातमी दरभंगा संसदीय क्षेत्र का चार बार प्रतिनिधित्व कर चुके हैं और उनकी पार्टी राजद ने इस बार अब्दुल बारी सिद्दीकी को वहां से उम्मीदवार बनाया।

फातमी मधुबनी से राजद द्वारा उम्मीदवार बनाए जाने की उम्मीद लगाए हुए थे, लेकिन विकासशील इंसान पार्टी के खाते में यह सीट चली गयी और उसने मधुबनी से बद्रीनाथ पूर्वे को अपना उम्मीदवार बनाया।

फातमी ने अपनी पार्टी के इस निर्णय का विरोध करते हुए राजद की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा देते हुए मधुबनी से चुनाव लड़ने की घोषणा कर दी थी। उन्होंने स्पष्ट किया कि राजद के दबाव में आकर उन्होंने अपना नामांकन वापस नहीं लिया क्योंकि जिस दल के अब वह सदस्य नहीं हैं उसके कहने का उनके ऊपर कोई प्रभाव नहीं पड़ने वाला है।

उन्होंने कहा कि समर्थकों के अनुरोध पर उन्होंने चुनाव लड़ने का फैसला किया था और उनके ही कहने पर उन्होंने अपना नामांकन वापस लिया है। पूर्व केंद्रीय मंत्री हुकुमदेव नारायण यादव के पुत्र अशोक यादव मुधबनी से भाजपा के उम्मीदवार हैं। मधुबनी में लोकसभा के पांचवें चरण में चुनाव होना है और नामांकन वापस लेने की आखिरी तारीख 22 अप्रैल है।

खानदानी सलीक़ेदार परिवार में शादी करने के इच्छुक हैं तो पहले फ़ोटो देखें फिर अपनी पसंद के लड़के/लड़की को रिश्ता भेजें (उर्दू मॅट्रिमोनी - फ्री ) क्लिक करें