नई दिल्ली | बुधवार को दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने नए वित्त वर्ष के लिए बजट पेश किया. इस बजट में कई नए एलान किये गए तो लगातार तीसरे साल टैक्स में कोई बढ़ोतरी नही की गयी. बल्कि कुछ चीजो पर टैक्स में कटौती की गयी है. बजट में शिक्षा और स्वास्थ्य पर एक बार फिर ज्यादा जोर दिया गया है. सबसे ज्यादा राशी इन्ही दो क्षेत्रो को आवंटित की गयी है. आइये जाने बजट की कुछ मुख्य बाते.

  1. दिल्ली विधानसभा में बजट पेश करते हुए दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा की पहले बार अजदा भारत के इतिहास में आउटकम बजट पेश किया जा रहा है. इस बार हर विभाग को खर्च के हिसाब से पूंजी आवंटित की जाएगी एक एप के जरिये खर्चे की मोनिटरिंग भी होगी. यही नही खर्चे के बाद आये फीडबैक के आधार पर राशी को बढ़ाया या घटाया जायेगा.
  2.  मनीष ने नए वित्त वर्ष के लिए 48 हजार करोड़ रूपए का बजट सामने रखा, जबकि दिल्ली सरकार को करीब 38 हजार करोड़ रूपए राजस्व के तौर पर प्राप्त होंगे. बजट में सबसे अधिक राशी 11800 करोड़ रूपए शिक्षा के लिए आवंटित किया गया. इसके बाद स्वास्थ्य को करीब 5800 करोड़ रूपए आवंटित किया गया. इस दौरान मनीष ने बताया की दिल्ली में प्रति व्यक्ति आय में बढ़ोतरी हुई है.
  3. नयी घोषणा करते हुए मनीष ने बताया की स्कूलों में करीब 8000 नए कमरे बन रहे है. सभी टीचर को टेबलेट देने , नए आर्ट , डांस और खेल टीचर की नियुक्ति करने और छात्रों को स्कूल ड्रेस में सब्सिडी देने का एलान किया गया.
  4. साल के अंत तक 150 मोहल्ला क्लिनिक और अगले साल तक 1000 मोहल्ला क्लिनिक बनाने का लक्ष्य. 7 नए अस्पतालों का निर्माण, 10000 नए बेड और 5 नए नशा मुक्ति केंद्र बनाने का एलान. दुर्घटना में घायल व्यक्ति को अस्पताल पहुँचाने वाले को 2000 की प्रोत्साहन राशी देने का भी एलान.
  5. 2017 के अंत तक सभी घरो में पाइपलाइन से पानी पहुँचाने का एलान किया गया. इसके अलावा इ-पियाऊ लगाने और टेप से पीने का पानी पहुँचाने का लक्ष्य रखा गया.
  6. दिल्ली को स्लम फ्री और गंदगी फ्री करने की घोषणा. 106 करोड़ रुपये पर्यावरण और वन विकास और 116 करोड़ रूपए पर्यटन के लिए आवंटित. आईटीआई पर स्काई वाक का निर्माण और 2018 से नए मेट्रो चरण की शुरुआत होगी. ATF पर टैक्स 25 फीसदी से घटाकर 1 फीसदी किया गया. इससे हवाई सेवाओं सस्ती होंगी.
  7. मार्बल्स के अलावा कोटा स्टोन एवं अन्य पत्थरो पर टैक्स दर 12.5 फीसदी से घटाकर 5 फीसदी की गयी.
  8. 20 रूपए से अधिक वाले सेनेटरी नेपकिन पर टैक्स दर घटाई गयी.
  9. झुग्गी झोपडी में रहने वाले 5000 परिवारों को फ्लैट में शिफ्ट किया गया. दिल्ली को स्लम फ्री बनाए का लक्ष्य. बापरौला और द्वारका में झुग्गी वालों के लिए फ्लैट बनाए गए.
मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?