सरसावा | उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में एक दलित युवक की मौत के बाद हंगामे की खबर है. मिली जानकारी के अनुसार पुलिस हिरासत में लिए गए एक दलित युवक का शव पास के जंगल में पेड़ पर लटका हुआ मिला. जिसके बाद परिजनों ने थाने पर पहुंचकर हंगामा किया और सड़क को जाम कर दिया. परिजनो का आरोप है की पुलिस द्वारा बेरहमी से पीटे जाने के बाद युवक की मौत हुई है.

वन इंडिया की खबर अनुसार शुक्रवार को सरसावा के मोहल्ला हरिजनान के रहने वाले दलित युवक परविंदर को पुलिस चोरी के आरोप में उठा कर ले गयी थी. उसी दिन रात 12 बजे परविंदर की माँ विधा देवी उससे मिलने पहुंची और पुलिस से उसे छोड़ने का आग्रह किया. विधा देवी का आरोप है की पुलिस ने इसके बदले उनसे पैसे की मांग की. इसके अलावा वो बेटे के लिए घर से खाना भी लायी थी जो परविंदर को नही देने दिया गया.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

शनिवार के दिन पुलिस ने फोन कर बताया की उनके बेटे ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है. वो जब थाने पहुंची तो बताया गया की परविंदर ने अम्बाला रोड स्थित एक जंगल में पेड़ से फंदा डालकर आत्महत्या कर ली. इससे गुस्साए परिजनों ने थाने पर हंगामा शुरू कर दिया. थाने पर लगे फ्लेक्स फाड़ दिए गए और हाई वे को जाम कर दिया गया.

परिजनों ने पुलिस पर आरोप लगाया की उन्होंने परविंदर की बेरहमी से पिटाई की जिसकी वजह से उसकी मौत हो गयी. अब अपना अपराध छुपाने के लिए पुलिस नयी कहानी गढ़ रही है. परिजनों के अलावा जब थाने पर काफी लोग जमा हो गये तो पुलिस ने आस पास के थानों से भी फाॅर्स को बुलाया. इसके अलावा बाजार को भी बंद कर दिया गया. लोगो की मांग है की दोषी पुलिस वालो पर कार्यवाही की जाये और मृतक के परिजनों को 10 लाख का मुआवजा दिया जाए. खबर है की देर रात 4 पुलिस को सस्पेंड कर दिया गया है.

Loading...