ten rupee coin

देश के कई हिस्सों में विशेषकर मध्यप्रदेश और राजस्थान में सिक्कों को लेकर आम जनता को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।दरअसल, दुकानदार ग्राहकों से सिक्कों को लेने में आनाकानी कर रहे है।

ऐसे में मध्य प्रदेश के मुरैना में एक दुकानदार को सिक्कों की वजह से ग्राहक को लौटाना भारी पड़ गया। दस रुपये के सिक्के लेने से इनकार करने का दोषी मानते हुए दुकानदार को स्थानीय ने केवल सजा सुनाई बल्कि 200 रुपये के जुर्माना भी लगाया।

जानकारी के अनुसार, ग्राहक आकाश ने जौरा कस्बे में बनियापारा स्थित दुकानदार अरुण जैन की दुकान से 17 अक्टूबर 2017 को दो रुमाल खरीदे थे। जिसका भुगतान 10-10 रुपये के सिक्के में किया था। लेकिन दुकानदार ने 10 रुपये के सिक्के यह कहते हुए आकाश को वापस कर दिये कि ये सिक्के अब बाजार में चलन में नहीं हैं।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

आकाश ने बताया कि उन्होने दुकानदार को ये भी बताया कि कलेक्टर मुरैना के आदेश हैं कि 10 रुपये के सिक्कों को लेने से कोई इनकार नहीं कर सकता है और ये सिक्के बाजार में चलन में हैं, लेकिन दुकानदार नहीं माना और उसने ग्राहक से रुमाल वापस लेकर लौटा दिया।

सिंह ने बताया कि खरीददार ने घटना की रिपोर्ट जौरा पुलिस थाने में दर्ज कराई। पुलिस ने दुकानदार अरुण जैन के विरुद्ध कलेक्टर द्वारा सिक्के स्वीकार करने के संबंध जारी आदेश का उल्लंघन करने का मामला दर्ज कर दुकानदार को गिरफ्तार कर लिया और फिर जांच के बाद प्रकरण का चालान अदालत में पेश किया।

न्यायिक मजिस्ट्रेट जौरा ने प्रकरण की सुनवाई के बाद दुकानदार अरुण जैन को भादंवि की धारा 188 के तहत कलेक्टर के आदेश की अवहेलना करने का दोषी पाया और उसे अदालत उठने तक की सजा तथा 200 रुपये के अर्थदंड से दंडित किया।

Loading...