330

ध्रुव गुप्त

15 मई की ये दोनों ताज़ा तस्वीरें उत्तराखंड के ऋषिकेश की है जब देहरादून के एक मदरसे के छात्र अपने शिक्षकों के साथ ऋषिकेश स्थित परमार्थ निकेतन के गुरुकुल में पहुंचे। गुरुकुल के ऋषिकुमारों ने बांहें फैलाकर उनका स्वागत और गले मिलकर उनका अभिनंदन किया।

दोनों संस्थानों के छात्रों ने साथ बैठकर देश भक्ति के गीत गाए। साथ-साथ वेद और क़ुरआन का पाठ किया। वेद की ऋचाओं और कुरआन की आयतों की गलबहियों का वह दृश्य देखने लायक था।

मौके पर स्वामी चिदानन्द सरस्वती महाराज ने कहा, मदरसा चल कर मठ, आश्रम और गुरुकुल आए और मठ चलकर मदरसों तक पहुंचे। दोनों एक दूसरे की आस्थाओं और जीवन मूल्यों को समझने की कोशिश करें। तभी हम भावी पीढ़ियों को एकता के संस्कार दे सकेंगे।’

हमें बांटने की सियासत की तमाम साज़िशों के बीच हमें जोड़े रखने की देहरादून के मदरसे और ऋषिकेश के गुरुकुल की यह पहल स्वागत योग्य है।

वक़्त की मांग है कि देश में चल रहे धार्मिक शिक्षा के सभी संस्थान अलग-अलग धर्मों और संस्कृतियों के बीच आपसी समझ और भरोसा क़ायम करने के उद्देश्य से नियमित रूप से आपसी मेल-मिलाप के ऐसे ही अवसर पैदा करें। देश में ज़ारी विभाजनकारी राजनीति को हमारा यह सबसे माक़ूल जवाब होगा।

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?