photo 270x250

भारतीय जनता पार्टी के विधायक और गोवा विधानसभा के उप सभापति माइकल लोबो ने बेरोजगारी को लेकर अपनी ही सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए कहा कि बेरोजगारी सूबे की सबसे बड़ी समस्या है। काम के लिए युवाओं को बाहर जाना पड़ रहा है।

उन्होंने कहा कि प्रदेश में नौकरिया हैं लेकिन ये सरकार विज्ञापन ही नहीं दे रही है। उन्होंने कहा कि अगर युवा नौकरी ना मिलने के चलते प्रदेश छोड़ें या किसी गलत काम में पड़े तो किसी भी दूसरे क्षेत्र में विकास का कोई मतलब नहीं रह जाता है।

लोबो ने मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर को लिखे अपने पत्र में कहा, ‘इसमें कोई संदेह नहीं कि आपके नेतृत्व में पिछले कुछ वर्षो के दौरान गोवा में हर क्षेत्र में काफी तरक्की हुई है, लेकिन युवा अगर बेराजगार होंगे तो फिर विकास का कोई अर्थ नहीं होगा।’

उन्होंने ये भी कहा कि गोवा में खनन से जुड़ा मुद्दा भी अधर में है। जबकि केंद्र और गोवा दोनों में ही भाजपा की सरकार है। अगर भाजपा विधायक खनन गतिविधियों से जुड़ी समस्याओं का निपटारा नहीं कर सकते तो उन्हें अगला चुनाव लड़ने का कोई हक नहीं है।

गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर की सेहत को लेकर भी माइकल लोबो ने बात की। लोबो ने कहा, उनकी सेहत में सुधार नहीं है। ऐसा लगता है कि उन्हें बातें सुनने-समझने में भी दिक्कत हो रही है। हम सभी उनके बेहतर स्वास्थ्य के लिए दुआएं कर रहे हैं मगर उनकी सेहत में सुधार के कोई सकारात्मक संकेत नहीं मिल रहे हैं।

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें