ram gulam 620x400

उत्तर प्रदेश में दलित उत्पीडन के एक के बाद एक नए मामले सामने आ रहे है. जिन पर सरकार नकेल कसने में पूरी तरह नाकाम साबित हो रही है. अब बदायूं में बेहद ही शर्मनाक मामला सामने आया है.

दरअसल, फसल की कटाई करने से मना करने पर बिसौरिया गांव में दलित किसान को पीटा गया, मूंछे उखाड़ दी गई इतना ही नहीं गांव की चौपाल पर नीम के पेड़ से बांधकर पेशाब भी पिलाया गया.

पीड़ित के परिवार का कहना है कि 23 अप्रैल को शाम पांच बजे विजय सिंह, पिंकू सिंह, शैलेंद्र सिंह और विक्रम सिंह (गांव के ठाकुर) ने पीड़ित किसान के साथ इस बर्बरनाक वारदात को अंजाम दिया. साथ ही कहा कि ‘इनका है कौन….सरकार हमारी.’

सीताराम के छोटे भाई अनबीर वाल्मीकि ने बताया कि एक पुलिस टीम घटना स्थल पर पहुंची और सीताराम को आरोपियों को चगुंल से छुड़ाया और ठाकुर को वहां से भगा दिया. लेकिन बाद में उसी रात हमारे घर पर दोबारा हमला किया गया. हमने दोबारा पुलिस से मदद की गुहार लगाई.  इस बार पुलिस ने धारा (151 सीआरपीसी) के तहत विजय सिंह और सीताराम के खिलाफ केस दर्ज किया.

दूसरी तरफ बदायूं के एसएसपी अशोक कुमार शर्मा ने बताया कि चार आरोपियों को बीते सोमवार को गिरफ्तार कर 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है. 23 अप्रैल को तेजी से कार्रवाई नहीं करने के आरोप में हजरतपुर के एसएचओ को बर्खास्त कर दिया गया है.

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें