Wednesday, January 19, 2022

अयोध्या में मस्जिद बाबर ने ही बनवाई थी, शिलालेखों पर लिखा ‘अल्लाह’: मुस्लिम पक्ष

- Advertisement -

नई दिल्ली. अयोध्या भूमि विवाद मामले में सुप्रीम कोर्ट में 28वें दिन शुक्रवार को भी सुनवाई हुई। इस दौरान मुस्लिम पक्षकारों की ओर से वरिष्ठ वकील राजीव धवन ने दलीलें पेश कीं।

धवन ने ‘बाबरनामा’ के अलग-अलग संस्करण और अनुवाद का जिक्र किया। उन्होंने दस्तावेजों के आधार पर दावा किया- मस्जिद बाबर ने ही बनवाई थी। विवादित ढांचे पर अरबी और फारसी शिलालेखों में अल्लाह लिखा था। हिंदू पक्षकारों ने सिर्फ गजेटियर्स का हवाला दिया था और अभिलेखों को छोड़ दिया था। अभिलेखों में साफ है कि बाबर ने ही मस्जिद बनवाई थी।

इस दौरान जस्टिस बोबड़े ने पूछा कि कई पुरानी मस्जिदों में संस्कृत में भी कुछ लिखा हुआ मिला है, वो कैसे? धवन ने कहा – क्योंकि बनाने वाले मजदूर कारीगर हिन्दू होते थे तो वे अपने तरीके से इमारत बनाते थे। बनाने का काम शुरू करने से पहले वो विश्वकर्मा और अन्य तरह की पूजा भी करते थे और काम पूरा होने के बाद यादगार के तौर पर कुछ लेख भी अंकित करते थे।

उन्होने कहा, 1985 में राम जन्मभूमि न्याय बनाया गया। फिर 1989 में केस दाखिल किया गया। फिर एक सोची समझी नीति के तहत कार सेवकों कार सेवकों का आंदोलन चलाया गया। विश्व हिंदू परिषद ने माहौल बनाया और आंदोलन को मोबाइलज किया और नतीजा ये हुआ कि 1992 में बाबरी मस्जिद को गिरा दी गई।

इससे पहले गुरुवार को उन्होने कहा था, ‘मस्जिद के केंद्रीय गुंबद को भगवान राम का जन्मस्थान बताने की यह कहानी 1980 के बाद से शुरू होती है। अगर वहां मंदिर था तो वह किस तरह का मंदिर था। चाहे वह स्वयंभू हो या शास्त्रीय मंदिर। गवाहों द्वारा मंदिर को लेकर दिए गए बयान अविश्वसनीय हैं। इसका कोई सबूत नहीं है कि लोग रेलिंग के पास जाते थे और गुंबद की पूजा करते थे। हिंदू पक्षकार के एक गवाह ने बताया था कि गर्भगृह में 1939 में मूर्ति नहीं थी। वहां पर बस एक फोटो थी। मूर्ति और गर्भगृह की पूजा का कोई सबूत नहीं है।’

इस पर जस्टिस अशोक भूषण बोले, “यह कहना सही नहीं है कि हिंदुओं ने गर्भगृह में पूजा की, इसका सबूत नहीं है। राम सूरत तिवारी नाम के गवाह ने 1935 से 2002 तक वहां पूजा करने की बात कही है। आप सबूतों को तोड़मरोड़ के पेश कर रहे हैं।’

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles