sy

बीते सात सालों से सीरिया युद्ध की मार झेल रहा है। दुनिया की महाशक्तियों के लिए जंग का अखाड़ा बना सीरिया पूरी तरह बर्बाद हो चुका है। जिसमे लाखों बेगुनाह लोग मारे जा चुके है और विस्थापित हो चुके है। एक अनुमान के मुताबित अब तक 3 लाख से ज्यादा लोग मारे जा चुके हैं।

इस बीच सीरिया के उपविदेशमंत्री ने कहा है कि कुछ अरब देशों ने सीरिया को बर्बाद करने के लिए 137 अरब डालर से अधिक आतंकवादी गुटों की सहायता की है। उन्होने कहा कि यह संकट विदेशियों के हस्तक्षेप और कुछ अरब व पश्चिमी देशों के षडयंत्रों का परिणाम है।

संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि पिछले पांच सालों में कम से कम सीरिया में ढाई लाख लोग मारे जा चुके हैं। हालांकि अगस्त 2015 के बाद से यूएन ने मरने वालों की संख्या को अपडेट करना बंद कर दिया है।  कई संगठनों का कहना है कि तीन लाख 21 हज़ार लोग मारे जा चुके हैं।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

syria1

एक थिंक टैंक ने चार लाख 70 हज़ार लोगों के मारे जाने का अनुमान लगाया है। 50 लाख लोग जिसमें ज़्यादातर महिलाएं और बच्चे शामिल हैं उन्हें सीरिया छोड़ भागना पड़ा। सीरिया संकट के कारण कई देश शरणार्थियों की समस्या से जूझ रहे हैं। सीरिया युद्ध कब ख़त्म होगा यह किसी को पता नहीं है।

बता दें कि सीरिया में विभिन्‍न देशों के अपने-अपने हित हैं। अमेरिका अपने दबदबे में किसी तरह की कमी नहीं आने देना चाहता तो रूस भी खुद को एक बार‍ फिर से बड़ी शक्ति के रूप में स्थापित करने में लगा है। यहां ईरान, सऊदी अरब और इजरायल के भी अपने-अपने हित हैं।

सीरिया में राष्‍ट्रपति बशर अल-असद की सरकार है, जिसे अमेरिका सत्‍ता से बेदखल करना चाहता है, लेकिन रूस मजबूती के साथ असद सरकार के साथ खड़ा है।

Loading...