akhilesh-mulayam_650x400_71476693505

लखनऊ | समाजवादी पार्टी में मचा घमासान कम होता नही दिखाई दे रहा. जैसे यह लगता है की अब पार्टी में सब कुछ सामान्य हो गया है तभी कुछ न कुछ ऐसा गठित हो जाता है की हालात और बिगड़ जाते है. आज बुलाये गए अधिवेशन में अखिलेश को पार्टी की कमान सौप दी गयी. अब पार्टी पर किसका कब्ज़ा होगा, इसकी जंग जारी हो गयी है. अखिलेश ने अध्यक्ष नियुक्त होते ही नरेश उत्तम को प्रदेश अध्यक्ष नियुक्त कर दिया तो मुलायम ने रामगोपाल को एक बार फिर पार्टी से निकाल दिया.

मिली जानकारी के अनुसार मुलायम सिंह यादव ने सख्त तेवर दिखाते हुए उन लोगो पर कार्यवाही करनी शुरू कर दी है जो आज अधिवेशन में उपस्थित रहे. मुलायम ने संसदीय दल की बैठक बुलाकर कुछ सख्त कदम उठाये. मुलायम ने रामगोपाल यादव को तीसरी बार पार्टी से बर्खास्त कर दिया. रामगोपाल के साथ साथ राज्यसभा सांसद नरेश अग्रवाल और किरणमय नंदा को भी पार्टी से निकाल दिया गया.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

उधर अखिलेश यादव ने शिवपाल को प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाते हुए MLC नरेश उत्तम को प्रदेश अध्यक्ष नियुक्त कर दिया. इसके बाद नरेश उत्तम अपने समर्थको के साथ लखनऊ के पार्टी कार्यालय पहुंचे और वहां पर कब्जे की कोशिश की. उस समय वहां मौजूद शिवपाल समर्थको ने उनको रोकने की कोशिश की जिससे हालात काफी नाजुक हो गए.

समाचार लिखे जाने तक अखिलेश समर्थको ने पार्टी मुख्यालय पर कब्ज़ा कर लिए था. यही नही वहां लगी शिवपाल यादव की नेमप्लेट भी उखाड़ दी गयी. उधर मुलायम सिंह यादव ने संसदीय दल की बैठक के बाद एक पत्र जारी किया. इसमें लिखा गया की आज जनेश्वर मिश्र पार्क में बुलाया गया अधिवेशन असंवैधानिक है और इसमें लिए गए सभी फैसले रद्द किये जाते है.

Loading...