Friday, August 6, 2021

 

 

 

शाहिद अफरीदी के विवादित बयान पर भड़के हरभजन और युवराज सिंह

- Advertisement -
- Advertisement -

पाकिस्तान के दिग्गज क्रिकेटर शाहिद अफरीदी ने एक बार फिर कश्मीर को लेकर विवादित बयान है। जिसे लेकर भारतीय खिलाड़ी भड़क गए। बता दें कि अफरीदी ने हाल ही में पीओके के एक इलाके का दौरा किया। जिसके बाद अफरीदी ने क्रिकेट बोर्ड से अपील की है कि पाकिस्तान क्रिकेट लीग के लिए कश्मीर के नाम पर एक क्रिकेट टीम की फ्रेंचाइजी को शामिल कर कश्मीर की मदद करें। शाहिद अफरीदी ने बतौर कप्तान इस टीम की अगुवाई करने की भी बात कही है।

शाहिद अफरीदी के इस बयान पर भारतीय टीम के पूर्व ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह ने कहा कि जो अफरीदी ने हमारे पीएम के खिलाफ बोला है वो बिल्कुल भी सहन करने लायक नहीं है। अफरीदी ने इस मामले में अपनी सारी हदें पार कर दी हैं। उन्होंने कहा कि मैं सोचता था कि अफरीदी हमारे दोस्त हैं लेकिन दोस्त कभी ऐसी बात नहीं कर सकता है और आज से मुझे उससे कोई मतलब नहीं है। उन्हें हमारे देश और पीएम के खिलाफ ऐसी बातें बोलने का कोई हक नहीं है।

वहीं टीम इंडिया के ओपनर शिखर धवन ने कहा है कि इस वक्त जब सारी दुनिया कोरोना से लड़ रही है, उस वक्त भी तुमको कश्मीर की पड़ी हैश्मीर हमारा था, हमारा है, हमारा ही रहेगा. चाहे 22 करोड़ ले आओ, हमारा एक, सवा लाख के बराबर है। बाकी गिनती अपने आप कर लेना।

इसके अलावा भारतीय बल्लेबाज सुरेश रैना ने भी शाहिद अफरीदी को खरी-खोटी सुनाई है। उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘भगवान की कसम! प्रासंगिक बने रहने के लिए लोगों को क्या करना चाहिए। एक देश को क्या करना चाहिए जो भीख पर जी रहा है। इसलिए अपने असफल देश के लिए कुछ बेहतर करें और कश्मीर छोड़ दें। मैं एक प्राउड कश्मीरी हूं और यह भारत का हमेशा एक अविभाज्य हिस्सा रहेगा। जय हिन्द।’

क्रिकेटर और बीजेपी सांसद गौतम गंभीर ने शाहिद अफरीदी को फटकार लगाई है। उन्होंने कहा ट्वीट कर कहा, ‘पाकिस्तान के पास 7 लाख फोर्स है। 20 करोड़ जनता है, ऐसा 16 साल के शाहिद अफरीदी कहते हैं। 70 साल से कश्मीर की भीख मांग रहे हैं। अफरीदी की तरह जोकर, इमरान और बाजवा भारत और प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ जगह उगलते हैं, पाकिस्तानी जनता को मूर्ख बनाते हैं. कयामत के दिन तक उन्हें कश्मीर नहीं मिलने वाला है।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles