Thursday, October 28, 2021

 

 

 

तुर्की सीरियल अर्तुरुल गाजी को देखने पर क्यों लगाए जा रहे फतवे?

- Advertisement -
- Advertisement -

दुनिया भर में बड़े पैमाने पर देखे जा रहे तुर्की सीरीज अर्तुरुल गाजी के खिलाफ एक के बाद एक फतवे दिये जा रहे है। जिसमे सीरीज को इस्लाम के खिलाफ बताकर मुस्लिमों को देखने से रोका जा रहा है।

मेहमत बोज़दाग द्वारा निर्मित सल्तनत ए उस्मानिया पर बनी ये सीरीज दुनिया के 120 से ज्यादा देशों में अलग-अलग भाषाओं में देखी जा रही है। हाल ही में पाकिस्तान में जारी हुए फतवे के चलते सीरीज एक बार फिर से चर्चा में आ गई। इससे पहले सीरीज पर मिस्र में फतवा लगा था। हालांकि सऊदी, यूएई और मिस्र सहित कई अरब देशों में Diriliş: Ertuğrul, or Resurrection: Ertuğrul को बैन किया जा चुका है।

पाकिस्तान में जारी हुआ फतवा

भारत में भी ये सीरीज काफी लोकप्रिय है। हाल ही में विवादित सलाफ़ी स्कॉलर जाकिर नाईक ने इस सीरीज को देखना हराम करार दिया था। हालांकि जिस तरह से अर्तुरुल गाजी के खिलाफ एक के बाद एक फतवे जारी हो रहे है। इससे पहले कभी किसी सीरियल या फिल्म को लेकर नहीं हुए।

ये फतवे खासतौर पर सलाफ़ी और देवबंद विचारधारा के उलेमाओं की और से जारी किए जा रहे है। वह भी ऐसी स्थिति में जब सऊदी अरब में सिनेमाघर, शराब खाने खुल चुके है। इतना ही नहीं अब तो मदीना की जमीन पर फोटोशूट भी हो रहे है। लेकिन इन कामों के खिलाफ अब तक दुनिया भर में कोई फतवा जारी नहीं हुआ है। इसके उलट अर्तुरुल गाजी के खिलाफ दर्जनों फतवे सामने आ चुके है।

अर्तुरुल गाजी सीरीज में न तो अश्लीलता परोसी गई है। इसके उलट सीरीज में सूफी इबनूल अरबी का किरदार है। जो सलाफ़ी विचारधारा के खिलाफ है। इसके अलावा सीरीज में दरूद ओ सलाम करते हुए किरदारों को दिखाया गया है। साथ ही इल्मे गैब, इश्क ए रसूल और शाने विलायत के विषय को सीरीज में पूरी तरजीह दी गई है। जिसको वहाबियत खारिज करती है।

पाकिस्तान में जारी हुआ फतवा

हालांकि इन फतवों के बावजूद अर्तुरुल गाजी की लोकप्रियता बढ़ती ही जा रही है। सीरीज का दूसरा सीजन ने भी यूट्यूब पर सारे रेकॉर्ड तोड़ दिये है। लाखों-करोड़ों की संख्या में हर सीरियल को देखा जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles