swra

swra

विवादित फिल्म ‘पद्मावत’ बॉलीवुड के मशहूर निर्देशक संजय लीला भंसाली की परेशानियों को खत्म करने का नाम नहीं ले रही है। बॉलीवुड अभिनेत्री स्वरा भास्कर ने ‘पद्मावत’ को लेकर भंसाली की तीखी आलोचना की है।

उन्होंने फिल्म के डायरेक्टर को खुला पत्र लिखाकर सती प्रथा और जौहर जैसी कुरीतियों का गुण गान करने का आरोप लगाया. स्वरा ने भंसाली से कहा कि वह उनकी ‘पद्मावत’ को लेकर काफी उत्साहित थीं। हालांकि उन्हें थोड़ी सी निराशा भी थी क्योंकि कुछ बाहरी लोगों के जोर के कारण भंसाली जी ने अपने फिल्म को ‘पद्मावती’ से ‘पद्मावत’ कर दिया, दीपिका पादुकोण की कमर ढक दी और फिल्म के कुछ 70 शॉट भी काट दिए।

ओपन लेटर में स्वरा की नाराजगी उस समय साफ झलक गई जब उन्होंने फिल्म को लेकर टिप्पणी करते हुए कहा कि डायरेक्टर ने महिलाओं को ‘वजाइना’ के तौर पर सीमित कर दिया है। फिल्म के आखिर में रानी पद्मावती द्वारा इज्जत की रक्षा के लिए खुद को जला देने के दृश्य (जौहर के सीन) पर वह लिखती हैं, ‘सर, महिलाओं को रेप का शिकार होने के अलावा जिंदा रहने का भी हक है।

बॉलीवुड अभिनेत्री ने आगे लिखा, पुरुष का मतलब आप जो भी समझते हो-पति, रक्षक, मालिक, महिलाओं की सेक्शुअलिटी तय करने वाले, उनकी मौत के बावजूद महिलाओं को जीवित रहने का हक है।’ स्वरा कहा, ‘महिलाएं चलती-फिरती वजाइना नहीं हैं। हां महिलाओं के पास यह अंग होता है लेकिन उनके पास और भी बहुत कुछ है। इसलिए लोगों की पूरी जिंदगी वजाइना पर केंद्रित, इस पर नियंत्रण करते हुए, इसकी हिफाजत करते हुए, इसकी पवित्रता बरकरार रखते हुए नहीं बीतनी चाहिए।’

स्वरा ने अपने द्वारा लिखे गए इस ओपन लेटर में ये माना है कि यह फिल्म ऐतिहासिक तथ्यों पर आधारित है और जौहर, सती जैसी कुप्रथाएं हमारे ही समाज का हिस्सा हैं। लेकिन फिल्म की शुरुआत में इन कुप्रथाओं के खिलाफ डिस्क्लेमर के जरिए निंदा करने का कोई मतलब नहीं है अगर अगले तीन घंटे की फिल्म में आपको राजपूत आन-बान-शान का महिमामंडन करना है।

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?