khali

टीम इंडिया के बाएं हाथ के तेज गेंदबाज खलील अहमद ने कहा कि विराट कोहली और रोहित शर्मा ने उन्हें ऐसा माहौल दिया कि वह खुद को टीम का अभिन्न हिस्सा मानने लगे हैं। अहमद ने दोनों खिलाड़ियों का उनकी काबिलियत पर भरोसा करने के लिए शुक्रिया भी अदा किया।

हिंदुस्तान टाइम्स से बातचीत में इस गेंदबाज ने कहा, “भगवान की दया से मैं अपना सपना जी रहा हूं लेकिन भारतीय टीम के सीनियर खिलाड़ियों के समर्थन के बिना ये मुमकिन नहीं हो पाता। सबसे पहले कोहली भाई और रोहित भाई ने मेरा स्वागत किया और मुझे घर जैसा महसूस कराया। बतौर युवा खिलाड़ी टीम में आने से मैं काफी नर्वस महसूस कर रहा था लेकिन उन्होंने मुझे अपने हिसाब से गेंदबाजी करने की आजादी दी।”

खलील ने आगे कहा, “आप अपनी काबिलियत को लेकर चाहे हजार बातें सोचते हों लेकिन जब तक सीनियर खिलाड़ी आपके ऊपर भरोसा नहीं दिखाते हैं, उन बातों का कोई मतलब नहीं। लेकिन कोहली भाई और रोहित भाई ने मुझे पूरी आजादी दी। उन्होंने एक बार भी मेरे लिए फील्ड को नियंत्रित करने की कोशिश नहीं की, ना ही मेरी लाइन और लेंथ को बदलने की कोशिश की। इस तरह के कप्तान पाना मेरी खुशकिस्मती है।”

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

एमएस धौनी को लेकर खलील ने कहा – ‘यह मेरे लिए बड़ी बात थी कि मैं गेंदबाजी कर रहा था और धौनी भाई विकेट के पीछे खड़े थे। अगर वह विकेट के पीछे खड़े हों तो एक गेंदबाज की आधी मुश्किलें खुद ब खुद आसान हो जाती हैं। उसे कैच छूटने या एज लगकर बॉल गैप में जाने की टेंशन नहीं होती। अगर आपने देखा होगा तो उस वक्त मैंने स्लिप थोड़ी दूर रखी थी क्योंकि मैं जानता था कि माही भाई वहां हैं ना। इसके अलावा उन्होंने मुझे हमेशा लाइन और लेंथ से गेंदबाजी करने की सलाह दी। उनका शांत स्वभाव हमेशा आपका हौसला बढ़ाता रहता है।’

राजस्थान के टोंक जिले से आने वाले खलील अहमद ने बेहद कम समय में अपनी धारदार गेंदबाजी से सबको प्रभावित किया है। 9 अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने वाले खलील ऑस्ट्रेलिया दौरे को लेकर काफी उत्साहित हैं, वो इसे अपने करियर का बड़ा मौका मान रहे हैं।

अहमद ने कहा, “हम पहले टी20 मैच से कुछ दिन पहले वहां जा रहे हैं और इससे हमे हालात को समझने में मदद मिलेगी। मैं ज्यादा आगे की नहीं सोच रहा और जो भी परिस्थितियां मिलेंगी उसका पूरा फायदा उठाएंगे। हां, विकेट से तेज गेंदबाजों को मदद मिलेगी, योजना सही एरिया में गेंद कराने और बल्लेबाजों को गलतियां करने पर मजबूर करने की होगी।”

Loading...