बॉलीवुड अभिनेत्री विद्या बालन ने सिनेमाघरों में राष्ट्रगान बजाने को लेकर एक बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा कि हम कोई स्कूल जाते बच्चे नहीं हैं कि दिन की शुरुआत राष्ट्र गान के साथ करेंगे. उन्होंने कहा, आप देशभक्ति की भावना जबरदस्ती किसी पर नहीं थोप सकते.

सीबीएफसी (सेंट्रल बोर्ड फॉर फिल्म सर्टिफिकेशन) की सदस्य विद्या बालन ने कहा कि ‘मुझे नहीं लगता कि फिल्मों से पहले राष्ट्रगान बजाया जाना चाहिए. हम स्कूल में नहीं पढ़ रहे हैं कि दिन की शुरुआत राष्ट्रगान के साथ करेंगे. इसलिए मेरा व्यकिगत रूप से मानना है कि राष्ट्रगान नहीं बजाया जाना चाहिए. आप किसी पर देशभक्ति थोप नहीं सकते हैं.

अभिनेत्री ने कहा कि उन्हें अपने देश से प्यार है और इसकी रक्षा के लिए किसी भी हद तक जा सकती हैं. विद्या बालन ने कहा, ‘‘लेकिन यह सही नहीं है कि कोई मुझे यह बात बताएं. जब मैं राष्ट्रगान सुनती हूं, मैं कहीं भी रहूं, खड़ी हो जाती हूं.’’

ध्यान रहे 2016 में सुप्रीम कोर्ट ने थियेटरों में फिल्म शुरु होने से पहले राष्ट्रगान और दर्शकों के लिए खड़ा होना अनिवार्य कर दिया था. लेकिन अब कोर्ट ने इस सबंध में बड़ी टिप्पणी करते हुए कहा कि किसी के राष्ट्रगान नहीं गाने से वह देशद्रोही नहीं हो जाता या ये नहीं माना जा सकता है कि वो कम देशभक्त है.

हालांकि केन्द्र की ओर से अटार्नी जनरल के के वेणुगोपाल ने कहा कि भारत एक विविधता वाला देश है और एकरूपता लाने के लिए सिनेमाघरों में राष्ट्रगान बजाना आवश्यक है.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?