हिंदू देवी-देवताओं पर कथित आपत्तिजनक टिप्पणी करने के मामले में गिरफ्तार हुए कॉमेडियन मुनव्वर फारूकी की परेशानी और बढ़ सकती है। दरअसल मुनव्वर फारूकी के खिलाफ यूपी के प्रयागराज में दर्ज मुकदमे में प्रोडक्शन वारंट जारी हुआ है।

एक साल पहले दर्ज हुए मुकदमे में प्रयागराज पुलिस ने प्रोडक्शन वारंट इंदौर सीजेएम कोर्ट और सेंट्रल जेल में तामील कराया है। प्रयागराज के जॉर्ज टाउन थाने में 19 अप्रैल 2020 को मुनव्वर फारुकी के खिलाफ एफआईआर दर्ज हुई थी। आशुतोष मिश्रा नाम के युवक ने यह एफआईआर दर्ज कराई है।

जॉर्ज टाउन थाने के शिशुपाल शर्मा ने बताया कि फारूकी द्वारा यूट्यूब पर अपलोड किए गए एक वीडियो में हिंदू देवी-देवताओं और गोधरा ट्रेन कांड में जलकर मरने वाले हिंदूओं का मजाक उड़ाया गया था। इस मामले की जांच क्राइम ब्रांच कर रही है।

बता दें कि फारूकी और चार अन्य स्टैंडअप कॉमेडियन को 1 जनवरी को इंदौर में नए साल के एक कार्यक्रम में कथित हिंदू देवताओं का अपमान करने और कोविड-19 प्रोटोकॉल का उल्लंघन करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। फिलहाल वह इंदौर जेल में बंद है।

मुनव्वर फारूकी की गिरफ्तारी को लेकर इंदौर पुलिस का कहना है कि राज्य में सत्तारूढ़ भाजपा की एक स्थानीय विधायक के बेटे की शिकायत पर गिरफ्तारी के बाद फारुकी के साथ छह अन्य युवा पखवाड़े भर से यहां न्यायिक हिरासत के तहत केंद्रीय जेल में कैद हैं। उसके खिलाफ लगाए गए आरोपों पर पुलिस को अब तक कोई सबूत नहीं मिले हैं।