भारत के प्रसिद्ध लेखक जावेद अख्तर ने मोदी समर्थकों को लेकर कहा कि आज प्रधानमंत्री की आलोचना करना मुश्किल हो गया हैं. प्रधानमंत्री की आलोचना करने पर राष्ट्र-विरोधी का तमगा पकड़ा दिया जाता हैं. अख्तर ने इसे मोदी राज में बढ़ रही असहिष्णुता करार दिया.

उन्होंने कहा “पहले प्रधानमंत्री को लेकर मजाक करना आसान था लेकिन आज के समय में अगर आप ऐसा करते हैं तो आप पर राष्ट्र-विरोधी होने का तमगा लगा दिया जाता है.” उन्होंने आगे कहा कि पहले प्रधानमंत्री को लेकर मजाक करना आम बात होती थी, लेकिन आज के समय में अगर आप ऐसा करते हैं तो आप पर राष्ट्र-विरोधी होने का तमगा लगा दिया जाता है.

जावेद ने असहिष्णुता के मुद्दे पर अपनी राय रखते हुए कहा कि अगर आज फिल्म जाने भी दो यारों की तरह महाभारत का कोई सीकुअल शूट किया जाए तो शायद उसके खिलाफ धरना शुरू हो जाए.

उन्होंने धर्म पर अपनी राय देते हुए कहा, “विश्वास और आस्था अलग-अलग चीजें हैं, वहीं विश्वास को साबित कर पाना मुश्किल है, लेकिन यह किसी का निजी मामला होता है. ऐसे में धर्म का होना जरूरी है लेकिन उसे ऐसे रखना चाहिए जैसे किसी संग्रहालय में रखा जाता हो.”


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें