bollywood composer stole

bollywood composer stole

व्यंग –

यह टाइटल सुनकर काफी लोगो को बुरा लगा सकता है की अच्छा, अगर विजय मॉल-ले-या देशवासियों को इतने अच्छे कैलंडर छापकर दे तो कुछ नही लेकिन अपनी कंपनी चलाने के लिए ज़रा सा लोन ना भरे तो उसकी ” एक गर्म चाय की प्याली ठंडी कर दो”. कमाल है कमाल है कमाल है .. तुम मुंबई आ रहे हो ..

जनाब आप तो मुंबई आ गये लेकिन इन गानों का क्या जो आपने मुंबई में अपने स्टूडियो के बाहर से उठाये .. वो भी ऐसी जगह से जहाँ का नाम लेना भी … तौबा तौबा …पाकिस्तान की चोरी .. हम जानते है आपमे संगीत की बेहतरीन समझ है लेकिन यह क्या ..? सात सुरों वाले संगीत यंत्र को अपने कॉपी-पेस्ट वाले दो बटनों वाला यंत्र बना डाला.

जब मैंने आपका गाना सुना था “अगर तुम मिल जाओ, ज़माना छोड़ देंगे हम” .. माँ कसम क्या कहू .. इस गाने के बारे में अपने नोकिया 3310 की रिंगटोन 3 महीने नही बदली थी लेकिन जब प्रभु किसी ने  बताया की यह गाना भी हाथ की सफाई का है तो मन करा की नोकिया 3310 ही तोड़ डालू (हालाँकि वो टूटता नही). पाकिस्तानी फिल्म ईमानदार का गाना जो 1974 में ही बन गया था वो आपने बीसवी सदी में हमें सुनवाया .. आपको ज़रा भी शर्म नही आई .. हम दुनिया से कहते फिर रहे है की पाकिस्तान गरीब और बर्बाद मुल्क है भारत तरक्की में उससे कही आगे है लेकिन आपने भारतवासियों की ‘भावनाओं को चोट’ पहुंचाई है …(माई लार्ड पॉइंट नोट किया जाए).

बुरा हो इस कलमुहे इन्टरनेट का .. सुसरे ने सारी पोल खोल के डाल दी .. अच्छा ख़ासा पहले कंसर्ट करने दुबई, पाकिस्तान जाते थे और चट्टा भरकर पाकिस्तानी गानों की कैसेट उठा लाते थे .. अक्कड़ बक्कड़ ..बम्बे बो ..करके कोई कैसेट पकड़ी और लो जी हो गया गाना तैयार .. उड़न कबूतर जोड़ी नदीम-क्षवण ने तो इत्ते दीवाने बनाये की मोहल्ले का हर नीले-पीली बनियान पहने वाला अपने डेक में यही गाने बजाता था … “तेरे दिल का, मेरे दिल का .. क्या कसूर’… और तो और उनका सबसे फेमस गाना .. धीरे धीरे मेरी ज़िन्दगी में आना ..आशिकी फिल्म वाला .. साब यह भी नदीम-क्षवण भाई की तिरछी नज़र का कमाल ही था .. एक संगीतकार ही दूसरों के गानों में स्कोप देख सकता है.

नोट – हम यहाँ उस्ताद प्रीतम दा की बात नही करेंगे, अनु मलिक और नदीम-क्षवण जैसो का स्टैण्डर्ड उनके आगे कहीं नही टिकता

 

और अब एक कमाल की बात बताते चलते है .. बॉलीवुड में अधिकतर धूम मचाने वाले गानों में ज़्यादातर पाकिस्तानी चोरी किये हुए गाने है. नुसरत फतेह अली खान, अताउल्लाह खान, मेहँदी हसन से लेकर तमाम छोटे मोटे संगीतकारों के गाने चोरी किये हुए है .. चाहे वो तू चीज़ बड़ी है मस्त मस्त हो या .. आजकल धूम मचाने वाला हवा हवा ए हवा ..खुशबु लुटा ..दे.

यह सिलसिला अब से नही बल्कि आर.डी.बर्मन के ज़माने से चला आ रहा है लेकिन उस टाइम तो ctrl +c और ctrl+V होता भी नही था. इसी को तो कहते है होशियारी

ना यकीन आये तो देख लो साब

 

सच्चा वाला नोट – यह व्यंग है, कोहराम न्यूज़ का मकसद किसी की भावनाए आहत करना नही है 

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें