नागरिकता संशोधन क़ानून के विरोध में दिल्ली में हो रहे प्रदर्शन में बॉलीवुड अभिनेत्री स्वरा भास्कर भी शामिल हुईं। इस दौरान वह प्रदर्शनकारियों पर हुई पुलिस कार्रवाई को लेकर काफी गुस्से में दिखी।

दिल्ली के प्रेस क्लब ऑफ इंडिया में हुए एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने कहा, “उत्तर प्रदेश में जो हालात बने हैं, उत्तर प्रदेश पुलिस का जो रवैया रहा है, वहां के मुसलमानों के साथ जो विरोध प्रदर्शन कर रहे थे और जो विरोध प्रदर्शन नहीं कर रहे थे उनके साथ भी। ये एक बहुत भयानक स्थिति है। उनकी (सरकार) हरकतें निंदनीय हैं। जिस तरह से वो घरों में घुसकर लोगों को मा’र रहे हैं, जिस तरह से सड़कों पर वो निहत्थों पर वार कर रहे हैं”

एबीपी की रिपोर्ट के अनुसार, स्वरा ने आरोप लगाया कि उत्तर प्रदेश सरकार सांप्रदायिक भावना के साथ काम कर रही है। उन्होंने कहा कि वो अपना काम नहीं कर रहे, बल्कि दंगाईयों का काम कर रहे हैं। स्वरा ने सवाल किया, “जंग लड़ रहे हैं आप? बॉर्डर पर हैं? बदले की जो भावना है वो क्या है? पुलिस का काम बदला लेना है या दंगाईयों को कंट्रोल करना है, या फिर कानून व्यवस्था व्यवस्था बनाए रखना है?”

स्वरा ने बातचीत के दौरान कहा कि ये जो मानसिकता है बदले कि, ये दिक्कत है। आपकी मानसिकता ही सांप्रदायिक है। आप उन लोगों को अपने प्रदेश का बराबर नागरिक ही नहीं मान रहे हैं। इसलिए बर्बरता के से उनके साथ व्यवहार किया जा रहा है। स्वरा ने सवाल किया कि ऐसा क्यों है कि अलीगढ़ यूनिवर्सिटी और जामिया यूनिवर्सिटी के अंदर घुसकर आप फायरिं’ग कर रहे हैं?

स्वरा ने इस मामले में न्यायिक जांच की मांग की। उन्होंने कहा कि जब सरकार इस तरह से अपनी ज़िम्मेदारियों से मुकर रही है और जब वो दहशत का माहौल फैला रही है. जब हमारे संविधान और संवैधानिक मूल्य खतरे में पड़ जाते हैं, तो हमारा न्यायतंत्र है, जिनका कर्तव्य है, संविधान की रक्षा करना। उनका कर्तव्य है एक स्वतंत्र जांच करना।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन