बॉलीवुड एक्ट्रेस स्वरा भास्कर को राजनीतिक प्रचार करना महंगा पड़ गया है। दरअसल, राजनीति के कारण उनके हाथ से 4 बड़े ब्रांड्स छिन गए हैं।

एक कार्यक्रम के दौरान उन्होंने कहा कि बॉलिवुड की हस्तियों से बुलंद आवाज की अपेक्षा करने से पहले लोगों को शत्रुतापूर्ण महौल का भी ख्याल रखना होगा, जो शीर्ष हस्तियों को अपनी राय सार्वजनिक नहीं करने देता है। स्वरा भास्कर ने अपनी आगामी फिल्म ‘शीर कोरमा’ के पोस्टर की लॉन्चिंग पर यह बात कही।

स्वरा से पूछा गया कि था कि बॉलिवुड की हस्तियां देश की प्रासंगिक मुद्दों पर बोलने से क्यों कतराती हैं। अपने जवाब में उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव 2019 में उन्होंने कन्हैया कुमार और आतिशी मार्लेना समेत कई उम्मीदवारों के लिए प्रचार किया था। लेकिन, शायद यह बहुत ही कम लोगों को पता होगा कि निल बट्टे सन्नाटा के एक्टर को उनकी राजनीतिक जुड़ाव के चलते कई सारे काम से हाथ धोना पड़ा।

स्वरा कहती हैं, “जिस दिन मैंने लोकसभा चुनाव में प्रत्याशी के लिए प्रचार किया उसी वक्त मेरे हाथ से चार ब्रांड्स और 3 इवेंट्स चले गए।” हालांकि, इस दौरान उन्होंने जल्दी से यह बात भी जोड़ते हुए कहा कि वह इस खुलासे से खुद को महान ठहराने की कोशिश नहीं कर रही हैं। लेकिन, इसके मार्फत बताना चाहती हैं कि जब अपकी चीजें दांव पर लगी हों, तो बोलने के मामले में रिस्क उससे भी ज्यादा बड़ा होता है।

स्वरा कहती हैं, “मैं नहीं कह रही हूं, ओह! मैं काफी महान हूं; लेकिन जब आप अपने स्टेक इतना ऊंचा रखते हैं कि एक सुपरस्टार डिनर को लेकर बातचीत करता है और आलोचनाओं में घिर जाता है या दूसरा सुपरस्टार अपनी राय देता है और उसकी कार के शीशे पर पत्थर फेंके जाते हैं, तब कैसे हम उम्मीद कर सकते हैं कि एक पब्लिक प्रोफाइल वाला व्यक्ति अपनी जिदंगी, करियर और परिवार की जिदंगी को दांव पर लगाएगा? उसे ही ऐसा क्यों करना चाहिए? बतौर समाज हमें खुद से यह सवाल करना चाहिए।”

स्वरा के मुताबिक, “बतौर सेलिब्रिटी आप विनाशकारी नकारात्मकाता की चपेट में काफी आसानी से आ सकते हैं। यदि हम चाहते हैं कि हमारे पब्लिक फीगर, विरासत वाले लोग आवाज बुलंद करें और जिम्मेदार पक्ष की तरफदारी करें, तो हमें पहले एक समाज बनना होगा, जो ऐसा करने वालों को सजा नहीं देता है।”

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन